“शरिया अदालत” तो दूर की बात है .. UP में एक जगह लगती है “रूहानी अदालत”

अगर आप शरिया अदालतों के खुलने की सूचना से थोड़ा हैरान , परेशान या विचलित हैं तो अब कुछ और सुनने और समझने के लिए तैयार हो जाइए क्योंकि ऐसी अदालत आप ने न पहले सुनी होगी और न ही सोची होगी  . भारत मे अगर कानूनी या संवैधानिक रूप से देखा जाय तो मात्र न्यायिक अदालतों का ही अस्तित्व स्वीकार किया जाता है लेकिन उत्तर प्रदेश के अम्बेडकर नगर में एक ऐसी जगह भी है जहां रूहानी अदालत लगती है जिसमे शामिल होने के लिए न सिर्फ देश से अपितु विदेशों स्व भी कई बार लोग आते हैं जिन्हें यहां भी भाषा मे जायरीन कहा जाता है ..

इसमे चौंकाने वाली बात ये है कि सबसे ज्यादा हिन्दू जायरीन ही होते हैं जो रूहानी अदालत में फैसला सुनने आते हैं .. ये अदालत लगती है उत्तर प्रदेश के अंबेडकर नगर में मुख्यालय अकबरपुर से थोड़ी दूर स्थित एक नामी दरगाह किछौछा शरीफ में ..अभी हाल ही में रूहानी अदालत के समय एक 3 मंजिला मकान जो जायरीनों के लिए बना था और जिसे किराये पर दिया था ..दरगार किछौछा में आस्ताने आलिया के निकट नीर शरीफ के पीछे नई बस्ती में अचानक तीन मंजिला इमारत की छत नीचे गिर गई जिससे पूरे क्षेत्र में सनसनी फैल गई। प्राप्त जानकारी के अनुसार गुड्डू कबड़िया ने नीर शरीफ के पीछे नई बस्ती में लगभग डेढ़ दर्जन कमरों वाला तीन मंजिला इमारत बनवा कर जायरीनों को किराए पे दे रखी थी। जर्जर हालत वाली इस इमारत का ऊपरी छत आज बरसात के कारण अचानक भरभरा कर नीचे गिर पड़ा। 

इस से पहले इसी रूहानी अदालत में शामिल होने के लिए अमेठी से आई एक लड़की का अपहरण हो चुका था जो उत्तर प्रदेश की पुलिस की अथक मेहनत से बरामद हो पाई थी ..किछौछा में अमेठी से अपने पिता के साथ रूहानी इलाज कराने आई 18 वर्षीय शबाना बानो विगत 19 जून को रहस्यमय ढंग से अचानक लापता हो गई थी। परिजनों की तलाश के बाद जब शबाना नहीं मिली तो लड़की के अब्बा गुलामा कादिर ने पुलिस का सहारा लिया था। बसखारी पुलिस ने मामले को गंभीरता से लेते हुए 24 जून को गुमशुदगी का मुकदमा पंजीकृत कर जांच शुरू कर दिया। इस बीच लड़की ने विभिन्न नंबरों से अपने परिवार पर बात करनी चाही मगर पता नहीं बता सकी। पुलिस ने उन नंबरों को सर्विलाएंस पर लगाते हुए ऑपरेशन मुस्कान के तहत मामले की छानबीन का सिलसिला तेज़ कर दिया। मुखबिर की सूचना व सर्विलयन्स के आधार पर उप निरीक्षक मय महिला आरक्षी के अमेठी पहुँचे और जामो थाना में स्थित एक नहर के पास से शबाना बानो को बरामद किया गया। प्रथम पूछतांछ पर लड़की ने बताया कि उसके पड़ोस के गाँव के दो लोग किछौछा दरगाह से ज़बरदस्ती ले कर गए थे और उन्हें बंधक बना कर अनजान जगह पर रखा हुआ था। थानाध्यक्ष मनबोध तिवारी ने बताया था कि बालिका को बरामद कर लिया गया और विधिक कार्यवाही की गयी ..

आज भी हजारों की संख्या में लोग भूत प्रेतों पर विश्वास करते हैं और मानसिक रोग से ग्रसित होने पर किसी अस्पताल या डॉक्टर को दिखाने के बजाय ऐसी जगह पर जाते हैं जहां लगती है भूतों की अदालत। ऐसी ही जगह है अम्बेडकर नगर जिले में स्थित हजरत मखदूम अशरफ सिमनानी की दरगाह की। किछौछा शरीफ में स्थित मखदूम साहब की दरगाह पर हजारों की संख्या में शारीरिक रूप से बीमार लोगों के अलावा मानसिक रूप से बीमार लोग भी बड़ी संख्या में इलाज के लिए आते हैं। यहां रूहों की अदालत लगती है जिसका फैसला यहाँ आने वाले कई लोग स्वीकार भी करते हैं ..फिलहाल ये धर्मनिरपेक्ष लोगों के लिए इबादत की भी जगह है जहां बड़े बड़े सेकुलर कद्दावर नेता भी मत्था टेकते हैं भले ही वो अयोध्या में श्रीरामजन्मभूमि का खुल कर विरोध करते हों ..

Share This Post