श्री नितिन गडकरी जी के आरक्षण पर दिए बयान को जिसने भी सुना वही बोला- “हम आपके साथ हैं”

देश में लागू जातिगत आरक्षण को लेकर अब विरोध के सुर मुखर होने लगे हैं तथा लोगों का मानना है कि जातिगत आरक्षण के बजाय आर्थिक आधार पर गरीबों को आरक्षण की व्यवस्था की जाए. इसी बीच केन्द्रीय सड़क परिवहन मंत्री श्री नितिन गडकरी जी ने आरक्षण पर एक बड़ा बयान दिया है, एक ऐसा बयान जिसे सुनने के बाद हर कोई नितिन गडकरी जी के इस बयान की तारीफ कर रहा है तथा कह रहा है कि मंत्री जी हम आपके साथ है.

जातिगत आरक्षण को लेकर केन्द्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी का कहना है कि उनकी सरकार का मानना है कि जाति के आधार पर नहीं बल्कि आर्थिक आधार पर आरक्षण देने की जरूरत है. मंत्री ने कहा कि गरीब की जाति, भाषा और क्षेत्र नहीं होती है. आरक्षण की मांग के मुद्दे पर पर गडकरी ने कहा कि अगर किसी समुदाय को आरक्षण मिल भी जाता है तो क्या होगा, नौकरियां हैं नहीं. लेकिन उनकी सरकार लगातार सुधार का प्रयास कर रही है कि ज्यादा से ज्यादा संख्या में नौकरियां उत्पन हों.  गौरतलब है कि मंत्री का बयान ऐसे समय में आया है जब महाराष्ट्र में मराठा आर्थिक आधार पर आरक्षण की मांग कर रहे हैं. उनका कहना है कि मराठा समुदाय को सरकारी नौकरियों और शिक्षा के क्षेत्र में 16 प्रतिशत आरक्षण मिले.

केन्द्रीय मंत्री गडकरी ने रविवार को कहा कि आरक्षण रोजगार देने की गारंटी नहीं है क्योंकि नौकरियां कम हो रही हैं. गडकरी ने कहा कि एक ‘सोच’ है जो चाहती है कि नीति निर्माता हर समुदाय के गरीबों पर विचार करें.  उन्होंने कहा, ‘एक सोच कहती है कि गरीब गरीब होता है, उसकी कोई जाति, पंथ या भाषा नहीं होती. उसका कोई भी धर्म हो, मुस्लिम, हिन्दू या मराठा (जाति), सभी समुदायों में एक धड़ा है जिसके पास पहनने के लिए कपड़े नहीं है, खाने के लिए भोजन नहीं है. उन्होंने कहा, ‘एक सोच यह कहती है कि हमें हर समुदाय के अति गरीब धड़े पर भी विचार करना चाहिए. उन्होंने कहा कि आज के समय की जरूरत है जब आरक्षण जाति के आधार पर नहीं बल्कि गरीबी के आधार पर होना चाहिए अन्यथा हम पिछड़ते ही जायेंगे.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW