स्वतन्त्रता दिवस: लाल किले से देश को संबोधित कर रहे हैं प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी.. कहा- “हम मक्खन पर नहीं पत्थर पर लकीर खींचने वाले लोग हैं”

हिन्दुस्तान आज आजादी की 72वीं वर्षगांठ मना रहा रहा है. स्वतन्त्रता दिवस के पावन पर्व पर देश में चहुँ ओर एक हर्ष की, एक उमंग की लहर दिखाई दे रही है. आज सुबह हिन्दुस्तान के यशस्वी प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी जी ने ट्वीट करके देशवासियों को स्वतंत्रता दिवस की शुभकामनाएं दी. प्रधानमंत्री ने ट्वीट किया, ” स्वतंत्रता दिवस के शुभ अवसर पर सभी देशवासियों को शुभकामनाएं! जय हिंद!” इसके बाद प्रधानमन्त्री जी ने राजघाट जाकर महात्मा गांधी को श्रद्धासुमन समर्पित किये तथा तथा इसके बाद लालकिले पर जाकर हिंदुस्तान की आन बान शान राष्ट्र ध्वज तिरंगे को सलामी दी. प्रधानमन्त्री मोदी जी ने 5वीं वार लाल किले पर ध्वजारोहण किया.

 लाल किले की प्राचीर से देश को संबोधित करते हुए पीएम मोदी ने कहा कि देश आज नई ऊंचाईयों को छू रहा है. आज का सूर्योदय नए उत्साह को लेकर कर आया है. हमारे देश में 12 साल में एक बार नीलकुरिंज का पुष्प उगता है, इस साल ये पुष्प तिरंगे के अशोक चक्र की तरह खिल रहा है. PM ने कहा कि आज देश के कई राज्यों की बेटियों ने सात समंदर को पार किया और सभी को तिरंगे से रंग दिया. उन्होंने कहा कि आज हम आजादी का पर्व उस समय मना रहे हैं, जब आदिवासी बच्चों ने एवरेस्ट पर तिरंगा फहराया है. पीएम ने अपने भाषण में सदन के मॉनसून सत्र का जिक्र किया. उन्होंने कहा, ‘ससंद का यह सत्र सामाजिक न्याय को सर्मपित रहा.’ मोदी ने कहा कि अभी-अभी संसद के दोनों सदनों के सत्र खत्म हुए हैं, हमारी कोशिश है कि सदन से हमने देश में सामाजिक व्यवस्था के न्याय को आगे बढ़ाने का काम किया है. ओबीसी आयोग को हमने संवैधानिक दर्जा देकर उन्हें बराबरी का हक दिया है.

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने कहा कि आज हर भारतीय इस बात का गर्व कर रहा है आज हम दुनिया की छठीं सबसे बड़ी अर्थव्यवस्था है.  मोदी ने कहा कि देश की आजादी के लिए कई महापुरुषों ने अपनी जान दी है, मैं उन सभी को नमन करता हूं. पीएम ने इस दौरान देश के सभी जवानों को सलाम किया और देश की सेवा के लिए उनका धन्यवाद किया. प्रधानमंत्री ने कहा कि आज देश में कई जगह अच्छी बारिश हो रही है, लेकिन कई जगह बाढ़ के हालात हैं. जहां पर भी मुसीबत है वहां सरकार सहायता कर रही है. पीएम मोदी ने स्वतंत्रता सेनानियों को याद करते हुए कहा कि देश को आजादी ऐसे ही नहीं मिली. इसके लिए बापू के नेतृत्व में अनेक क्रांतिकारियों, नौजवानों ने अपनी जवानी जेल में काटी. पीएम मोदी ने कहा कि अगले साल जलियांवाला बाग कांड को 100 साल पूरे हो रहे हैं, ऐसे में हम उन सभी शहीदों को नमन करते हैं.

पीएम मोदी ने कहा कि आने वाले वक्त में भारत दुनिया को नया रास्ता दिखाएगा. उन्होंने कहा कि हम सामर्थ्यवान हिंदुस्तान बनाना चाहते हैं. उन्होंने कहा कि हम चाहते हैं कि पूरी दुनिया में हिंदुस्तान की साख और धमक हो. पीएम मोदी ने तमिल कवि सुब्रमण्यम भारती की एक कविता का उल्लेख करते हुए कहा कि उन्होंने लिखा था कि भारत न सिर्फ एक महान राष्ट्र के रूप में उभरेगा बल्कि दूसरों को भी प्रेरणा देगा. पीएम मोदी ने कहा, “उन्होंने कहा था- भारत पूरी दुनिया को हर तरह के बंधनों से मुक्ति पाने का रास्ता दिखाएगा.” प्रधानमंत्री मोदी ने कहा कि 2014 में लोगों ने सिर्फ नई सरकार नहीं बनाई है, बल्कि उन्होंने देश को बनाने का काम किया है. पीएम ने कहा कि आज देश में 125 करोड़ हिंदुस्तानी नया देश बनाने में जुटे हैं. उन्होंने कहा कि हमें ये देखना होगा कि हम कहां से चले थे और कहां पर पहुंचे, ये हमें देखना होगा. मोदी ने कहा अगर हम 2013 को इसका आधार मानें और अगर 2014 के बाद से देश की रफ्तार देखें तो आपको हैरानी होगी.

मोदी ने कहा कि पिछले चार सालों में देश ने बदलाव महसूस किया है. उन्होंने कहा कि आज देश में शौचालय बनाने, गांव में बिजली पहुंचाने, गरीबों को एलपीजी गैस कनेक्शन देने, ऑप्टिकल फाइबर बिछाने की रफ्तार सबसे तेज हुई है. उन्होंने कहा कि अगर देश साल 2013 की रफ्तार से चलता तो ऐसा करने में दशकों लग जाते. पीएम ने कहा कि देश, व्यवस्था, अधिकारी, लोग सब वही हैं लेकिन आज देश बदलाव महसूस कर रहा है. आज देश में दोगुनी रफ्तार से हाइवे बन रहे हैं वहीं चोगुनी रफ्तार से गांव में घर बना रहे हैं. पीएम मोदी ने कहा कि हम कड़े फैसले लेने का सामर्थ्य रखते हैं क्योंकि देशहित हमारे लिए सर्वोपरि है. उन्होंने कहा कि जब हौसले बुलंद होते हैं, देश के लिए कुछ करने का इरादा होता है तो बेनामी संपत्ति का कानून भी लागू होता है. पीएम मोदी ने कहा कि 2014 से पहले दुनिया की गणमान्य संस्थाएं और अर्थशास्त्री कभी हमारे देश के लिए क्या कहा करते थे, वो भी एक जमाना था कि जब कहा जाता था कि हिंदुस्तान की इकॉनोमी बड़ी रिस्क से भरी है और आज वही लोग हमारे रिफॉर्म की तारीफ कर रहे हैं.

आज हम दिव्यांग भाइयों-बहनों के लिए कॉमन साइन डिक्शनरी पर काम कर रहे हैं. आज सेना में इतना दम है कि वह सर्जिकल स्ट्राइक करती है. उन्होंने कहा कि हमें बड़े लक्ष्यों को लेकर आगे चलना होगा. किसानों को मिलने वाली एमएसपी बढ़ गई.  जीएसटी लागू किया गया, शुरू में थोड़ी कठिनाइयां आने के बाद भी छोटे व्यापारियों ने इसे स्वीकार किया. हमारी सरकार ने बेनामी संपत्ति कानून और OROP जैसे महत्वपूर्ण फैसले लिए. आज पुरानी दुनिया भारत को उम्मीद की नजरों से देख रही है. आज ईज ऑफ डूइंग बिजनेस में देश की अच्छी रैंकिंग है. आज हर कोई भारत की रिफॉर्म, परफॉर्म और ट्रांसफॉर्म नीति की तारीफ कर रहा है. आज दुनिया कह रही है कि सोया हुआ हाथी अब जग चुका है और दौड़ने के लिए तैयार है. पीएम मोदी ने इस मौके पर कहा, ‘आज मेरा सौभाग्य है कि इस पावन अवसर पर मुझे देश को एक और खुशखबरी देने का अवसर मिला है. साल 2022, यानि आजादी के 75वें साल में और संभव हुआ तो उससे पहले ही, भारत अंतरिक्ष में तिरंगा लेकर जा रहा है.’

Share This Post