बाबा रामदेव जी ने बोली देश के मन की बात… रोहिंग्या और बांग्लादेशी न भगाए तो ये होने वाला है भारत का हाल

असम NRC जारी होने के बाद देश में मचे राजनैतिक घमासान के बीच देश में रह रहे अवैध घुसपैठियों को लेकर विश्वविख्यात योगगुरु स्वामी रामदेव जी ने भी अपना बयान दिया है है. एक ऐसा बयान जिसे सुनकर राष्ट्रवादी खुशी से झूम उठे हैं तथा एक सुर में स्वामी रामदेव का समर्थन कर रहे हैं. स्वामी रामदेव ने कहा कि अवैध घुसपैठिए चाहे किसी भी देश के हों उन्हें देश से निर्वासित किया जाना चाहिए नहीं तो वे समस्याओं से भरा 10 और कश्मीर बना देंगे. उन्होंने कहा है कि रोहिंग्याओं और बांग्लादेश से आए लोगों को भारत में नहीं बसाया जा सकता.

ज्ञात हो कि असम में अवैध बांग्लादेशियों को लेकर बड़ी मुहिम चलाई जा रही है. नेशनल रजिस्टर सिटीजंस (एनआरसी) के ड्राफ्ट में करीब 40 लाख लोगों को अवैध बताया गया है. हालाँकि इन लोगों को अपनी नागरिकता साबित करने का एक मौका और ददिया गया है. स्वामी रामदेव ने कहा कि ऐसे लोगों को जल्दी से जल्दी देश से निर्वासित करना चाहिए नही तो ये 10 और कश्मीर पैदा कर देंगे. उन्होंने कहा कि सरकार के लिए एक कश्मीर को संभालना मुश्किल हो रहा है तथा इन अवैध घुसपैठियों को नहीं रोका गया तो ऐसे ही १० कश्मीर और तैयार होंगे, उस समय कितनी खतरनाक स्थिति में होगा, इसका अंदाजा कश्मीर के वर्तमान हालातों को देखकर सहज ही लगाया जा सकता है. स्वामी रामदेव ने कहा कि रोहिंग्या तथा बांग्लादेशी घुसपैठिये विदेशी नागरिक हैं और उन्होंने भारत में डेरा डाला है. उनका कहना है कि रोहिंग्या अगर यहां बसाए गए तो भारत में दस और कश्मीर तैयार हो जाएंगे.

योगगुरु रामदेव ने कहा कि पूरे देश में करीब 4 करोड़ लोग अवैध तरीके से रह रहे हैं. बाबा रामदेव ने कहा कि चाहे वो बांग्लादेशी, पाकिस्तानी हो या रोहिंग्या हो अवैध प्रवासियों ने हमेशा से भारत की सुरक्षा के लिए एक बड़ा खतरा पैदा किया है और इस लिहाज से उन सभी को निर्वासित किया जाना चाहिए क्योंकि मानवता की आड़ में हम देश की एकता, अखंडता, सुरक्षा के साथ खिलवाड़ स्वीकार नहीं किया जा सकता. बाबा रामदेव ने कहा कि एनआरसी मुद्दे को लेकर असम में शुरू हुआ विवाद थमने का नाम नहीं ले रहा है. कुछ लोग इसे राष्ट्रहित में बता रहे हैं तो कुछ वोटों की राजनीति करार दे रहे हैं. उन्होंने कहा कि तीन से चार करोड़ विदेशी नागरिक अवैध रूप से भारत में रह रहे हैं जिन्हें देश से बाहर किया ही जाना चाहिए.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW