योगी के मंत्री ने #SCSTAct पर मोदी को ही खड़ा कर दिया कटघरे में


SCST एक्ट पर केंन्द्र सरकार द्वारा सुप्रीम कोर्ट का फैसला पलट देने के बाद देश एक बड़ा वर्ग आक्रोशित है तथा सरकार सहित विपक्षी राजनैतिक दलों के खिलाफ भी मोर्चा खोल दिया है. सवर्ण समाज के साथ OBC समाज भी SCST एक्ट के खिलाफ सडकों पर आ गया है तथा इसी क्रम में 6 सितंबर को सवर्ण तथा ओबीसी समाज द्वारा भारत बंद किया गया तथा इस एक्ट का विरोध किया गया है. अगर देखा जाए तो वर्तमान में SCST एक्ट को लेकर जिस तरह से गैर दलित समाज मुखर हो रहा है, उससे न सिर्फ सत्तासीन भाजपा बल्कि विपक्षी पार्टियों के माथे पर भी बल ला दिए हैं.

SCST एक्ट पर मचे घमासान के बीच अब मोदी सरकार को चुनौती मिली है खुद उनके की कुनबे से. आपको बता दें कि उत्तर प्रदेश की योगी आदित्यनाथ सरकार में मंत्री तथा सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष ओमप्रकाश राजभर ने #SCST का फैसला पलटने पर मोदी सरकार को ही कटघरे में खड़ा कर दिया है. सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी (सुभासपा) के अध्यक्ष व उत्तर प्रदेश प्रदेश के कैबिनेट मंत्री ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि एससी-एसटी एक्ट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का फैसला सही था. उन्होंने कहा, 131 सांसद वहां पर एससी-एसटी के हैं.’ इसलिए सरकार ने उनके दबाव में आकर यह फैसला लिया है. अपने आक्रामक तेवरों से अपने ही सहयोगी दल पर सवाल खड़े करनेवाले सुहेलदेव भारतीय समाज पार्टी के अध्यक्ष ओम प्रकाश राजभर ने कहा कि जिसपर मुकदमा लिख जाए तो उसी से पूछिए कि उसके उपर क्या बीतती है. उन्होंने कहा कि SCST एक्ट गैर दलित समाज के खिलाफ एक बड़ा हथियार बन गया है तथा ये एक्ट गौर दलित समाज के पर उत्पीडन है.

ओमप्रकाश राजभर ने कहा कि एससी/एसटी एक्ट के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने जो फैसला दिया था वह कानून व समाज के हित में था. कोर्ट के निर्णय के विपरीत जाकर केंद्र सरकार ने बिल पारित किया उसका विरोध वाजिब है. इस एक्ट का दुरुपयोग अधिक होता है. झगड़ा एक व्यक्ति से होता है और सजा पूरे परिवार को मिलती है तथा ज्यादातर इस एक्ट के तहत झूठे मामले दर्ज कराए जाते हैं. योगी सरकार में कैबिनेट मंत्री ने कहा वे इस एक्ट के मामले में सरकार द्वारा पारित बिल के खिलाफ हैं तथा मांग करते हैं SCST एक्ट में सुप्रीम द्वारा दिए गये फैसले को पुनः लागू किया जाये.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...