इस्लामिक झंडे को लेकर #WaseemRizvi ने की ऐसी मांग जिससे उबल पड़े मौलाना… जानिए क्या कहा रिजवी ने

उत्तर प्रदेश शिया वक्फ बोर्ड ने चेयरमैन सैय्यद वसीम रिजवी ने एक बार फिर ऐसा बयान दिया है जी पर सियासत गरमा गयी है तथा इस्लामिक मौलाना उबल पड़े हैं. वसीम रिजवी को इस्लाम में एक विवादित नेता माना जाता है जबकि वसीम रिजवी का कहना है कि चूँकि वह सच बोलते हैं इसलिए उन्हें निशाना बनाया जता है. अब वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट में एक याचिका दायर की है जिसमें उन्होंने मांग की है कि इस्लाम में धर्म के नाम पर चाँद सितारे वाले हरे झंडे को लहराने पर रोक लगे क्योंकि ये झंडा इस्लाम का नहीं है बल्कि पाकिस्तान मुस्लिम लीग का है.

वसीम रिजवी ने अपनी याचिका में मांग की है कि सुप्रीम कोर्ट केंद्र सरकार को आदेश दे कि ऐसी जगहों की पहचान करे जहां ऐसे झंडे लहराए जाते हैं. वसीम रिज़वी की दलील है कि हरे कपड़े पर चांद-सितारों के निशान वाले मुस्लिम लीग के इस झंडे का इस्लामी मान्यताओं से कोई लेना देना नहीं. न तो हर रंग और ना ही चांद सितारा इस्लाम के अभिन्न अंग हैं. याचिका में कहा गया है कि पाकिस्तान हमारा दुश्मन मुल्क है और देश में आतंकवादी गतिविधियों के जिम्मेदार है. इतना ही नहीं पाकिस्तान सरहद पार आतंकवाद को बढ़ावा देता है. पाकिस्तान सरहदों पर तैनात हमारे जवानों पर हमला करता है. ऐसे में पाकिस्तान मुस्लिम लीग का झंडा लहराना सही नहीं है.

शिया यूपी सेंट्रल वक़्फ़ बोर्ड के चेयरमैन वसीम रिज़वी ने सुप्रीम कोर्ट में दायर अपनी याचिका में अपील की है कि दरअसल ये झंडा मुस्लिम लीग का था जो 1946 में ख़त्म हो गई. देश के बंटवारे के ज़िम्मेदारों में से अहम किरदार निभाने वाली मुस्लिम लीग ने 1947 में पाकिस्तान में नया चोला पहना और अपना झंडा और निशान वही चांदतारा वाला हर झंडा रखा. बाद में पार्टी मुस्लिम लीग कायदे आज़म के नाम से जानी गई. पाकिस्तान का झंडा भी मुस्लिम लीग के झंडे में ही एक सफेद पट्टी लगाकर तैयार किया गया. रिज़वी के मुताबिक इस्लाम मे वैसे हरा नहीं बल्कि काला तथा सफेद रंग ज़्यादा अहमियत रखता है. उन्होंने कहा कि हिन्दुस्तान में इस्लाम के नाम पर एक तरह से पाकिस्तान(मुस्लिम लीग) का झंडा फहराया जाता है जिस पर रोक लगाई जानी चाहिए. वसीम रिजवी ने सुप्रीम कोर्ट से मांग की है कि ऐसे संस्थानों, व्यक्तियों और धार्मिक संस्थाओं के खिलाफ करवाई की जाए जो पाकिस्तान मुस्लिम लीग वाले झंडे लहरा रहे हैं, क्योंकि ये इस्लामिक झंडे नही हैं.

Share This Post

Leave a Reply