राहत अली ने प्रग्नेंट बीवी को पहले बोला “तलाक तलाक तलाक” फिर कहा- नहीं मानता किसी क़ानून को

इतने प्रतिबन्ध के बाद भी देश में तीन तलाक रुकने का नाम नही ही ले रहा है.भले ही केंद्र की सरकार ने तीन तलाक पर कानून बना दिया हो लेकिन तीन तलाक के मामले थमने का नाम नही ले रहा है. तीन तलाक पर कानून बनने के बाद भी काशीपुर में एक मामला सामने आया है. जहां एक बार फिर एक महिला को इन तीन शब्दों का शिकार होना पड़ रहा है. जिसने इंसाफ के लिए कानून से गुहार लगाई है.

एक गर्भवती महिला को सबसे ज्यादा अपने पति और अपनी माँ से सहयोग की उम्मीद होती है. लेकिन एक पति ने अपनी पत्नी के गर्भवती होने पर उसके साथ तलाक के तीन शब्दो का खेल शुरू कर दिया और कोर्ट के चक्कर लगवाने के लिए प्रयास किया है. मामला काशीपुर के बांसवाड़ा चौकी क्षेत्र का है. जहां की निवासी मेसर जहा ने मार्च 2018 में अपनी बेटी का निकाह उत्तर प्रदेश के संभल निवासी राहत अली से किया था.

सुनने में यह भी आया है कि निकाह के कुछ समय बाद राहत अली के पिता तालिब हुसैन ने अपनी बहू के साथ अभद्रता भी कि थी. जिसके चलते मेसर जहां ने अपनी बेटी को काशीपुर अपने घर में बुला लिया था और पुलिस में शिकायत दर्ज कर कानून से मदद की गुहार लगाई थी. जिसका मामला आज भी काशीपुर कोतवाली के महिला हेल्पलाइन में चल रहा है. जिसके बाद राहत अली अपनी पत्नी के साथ काशीपुर में अपने ससुराल में रह रहा था.

लेकिन एक दिन  अचानक राहत अली अपने ससुराल से फोन पर बात करते हुए वहां से फरार हो गया और फिर राहत अली ने अपनी पत्नी को अपने से अलग करने के लिए तीन तलाक का खेल रचा और उसके बाद उसने पोस्ट आफिस से अपनी पत्नी को तलाक का एक लेटर लिखकर भेज दिया. जिसके बाद पीड़िता और उसकी मां में हड़कंप मच गया और उन्होंने इसकी शिकायत काशीपुर कोतवाली में दर्ज करवा दी है.

अब मामला यह कि पीडिता अब गर्ववती है और अपने मइके रह रही है क्योंकि ससुर  द्वारा अभद्रता के बाद वह अपने ससुराल वापस नहीं गई. पीड़िता की मां बेसर जहां ने बताया कि  उनकी बेटी गर्भवती है और उसके पति ने उसे तलाक देकर बहुत घिनौना काम किया है, ऐसे में आरोपी को सख्त से सख्त सजा दे.

Share This Post