जो राजकुमारी रत्ना सिंह हुआ करती थीं उत्तर प्रदेश में कांग्रेस की रीढ़, उन्होंने एन मौके पर दिया झटका


लोकसभा चुनाव 2019 में करारी हार झेलने के बाद हताश हुई कांग्रेस की मुश्किलें कम होने का नाम नहीं ले रही हैं. कांग्रेस के एक के बाद एक कद्दावर कांग्रेसी नेता पार्टी छोड़ बीजेपी या अन्य दूसरी पार्टियों का दामन थाम रहे हैं. कांग्रेस पार्टी को ताजा झटका उस उत्तर प्रदेश से लगा है जिस उत्तर प्रदेश में कांग्रेस को संवारने की जिम्मेदारी प्रियंका वाड्रा के ऊपर है. कांग्रेस को झटका उन राजकुमारी रत्ना सिंह की तरफ से लगा है जो पूर्वी यूपी में कांग्रेस की रीढ़ मानी जाती थीं.

खबर के मुताबिक़, उत्तर प्रदेश के प्रतापगढ़ से तीन बार कांग्रेस पार्टी की सांसद रहीं तथा प्रतापगढ़ के कालाकांकर राजघराने की राजकुमारी रत्ना सिंह ने बीजेपी का दामन थाम लिया है. मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ की उपस्थिति में मंगलवार दोपहर राजकुमारी रत्ना सिंह ने भाजपा की सदस्यता ग्रहण की. राजकुमारी रत्ना सिंह कांग्रेस पार्टी की कद्दावर नेता थीं तथा देश के पूर्व विदेश मंत्री स्व. दिनेश सिंह की बेटी हैं. राजकुमारी रत्ना सिंह के पिता पूर्व प्रधानमंत्री इंदिरा गांधी तथा राजीव गांधी दोनों के ही करीबी रहे हैं. स्वयं राजकुमारी रत्ना सिंह की गांधी पारिवार से काफी घनिष्ठता थी.

ऐसे में राजकुमारी रत्ना सिंह का बीजेपी से जुड़ना कांग्रेस के लिए बड़ा झटका है. एकतरफ प्रियंका वाड्रा यूपी में कांग्रेस को खड़ा करने की कोशिश कर रही हैं वहीं दूसरी तरफ कांग्रेस के तमाम बड़े नेता पार्टी का दामन छोड़ते जा रहे हैं.अमेठी के महाराज कहे जाने वाले ठाकुर संजय सिंह कांग्रेस को झटका देकर पहले ही बीजेपी से जुड़ चुके हैं. इसके अलावा रायबरेली से कांग्रेस की लोकप्रिय विधायक अदिति सिंह बीजेपी से नजदीकियां बढ़ा रही हैं तथा उनके भी बीजेपी से जुड़ने की बात कही जा रही है. ऐसे में राजकुमारी रत्ना सिंह का बीजेपी से जुड़ना कांग्रेस के गहरे जख्मों पर नमक डालने जैसा है.

भाजपा ज्वाइन करने के बाद पूर्व सांसद रत्ना सिंह ने कहा कि देश में मोदी-योगी जैसा राष्ट्रभक्त कोई नहीं है. नि:स्वार्थ भाव से देश की सेवा करने वाले महापुरुष का हौसला बढ़ाने के लिए मैने भाजपा में शामिल होने का फैसला किया है. उन्होंने कहा कि क्षेत्रीय जनता की यह आवाज थी कि मैं भाजपा में शामिल हो जाऊं. मैंने जनता के फैसले के मुताबिक कदम उठाया है. उन्होंने कहा कि मोदी-योगी जैसा राष्ट्रभक्त दूसरा कोई नहीं हो सकता है. देश में ही नहीं, बल्कि विदेशों में अपना लोहा मनवाने वाले मोदी का अभी और हौसला बढ़ाने की जरूरत है.

राजकुमारी रत्ना सिंह ने कहा कि कालाकांकर रियासत का इतिहास है कि अंग्रेजों को भारत से भगाने में बढ़-चढ़कर भूमिका निभाई थी. उन्होंने कहा कि भाजपा में पूरी आस्था प्रकट करते हुए कहा कि किसी पद और लालच में नहीं गई हूं, बल्कि जनता का विश्वास बनाए रखने के लिए भाजपा ज्वाइन किया है. उन्होंने कहा कि यह फैसला मेरा अकेले का नहीं है, बल्कि क्षेत्र की जनता की आवाज थी कि मैं भाजपा में शामिल हो जाऊं तथा मैं बीजेपी से जुड़ गई.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...