राहुल गांधी द्वारा कांग्रेस अध्यक्ष पद छोड़ने के बाद पहली बार बोलीं उनकी बहन प्रियंका गांधी

2019 के लोकसभा चुनावों में बीजेपी के हाथों करारी हार के बाद कांग्रेस में मचा घमासान थमता हुआ नजर नहीं आ रहा है. चुनाव परिणामों के बाद से ही राहुल गांधी संकेत दे रहे थे कि अब वह कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष नहीं रहेंगे तथा कल राहुल गांधी ने कांग्रेस पार्टी के अध्यक्ष पद से इस्तीफा दे दिया तथा कहा कि कांग्रेस अब नया अध्यक्ष चुने. राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद तमाम तरह की राजनैतिक बयानबाजी शुरू हो गई है.

सेक्यूलर भारत के क्रिकेट में भी घुसा पाकिस्तानी धर्म.. लिए गये हिंदू और मुसलमान के नाम

राहुल गांधी के इस्तीफे के बाद उनकी बहन तथा कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी ने बड़ा बयान दिया है. प्रियंका गांधी ने लिखा कि राहुल गांधी ने इस्तीफा देकर हिम्मत दिखाई है, ऐसा करने की क्षमता कुछ ही लोगों में होती है. मैं उनके फैसले का दिल से सम्मान करती हूं.

बता दें कि कल राहुल गांधी ने अपने इस्तीफे की चिट्ठी ट्विटर पर पोस्ट की थी. चिट्ठी में राहुल गांधी ने यह भी कहा है कि आगे जो कांग्रेस का भी अद्यक्ष चुना जायेगा वह गाँधी परिवार से नहीं होना चाहिए. सूत्रों के मुताबिक यह पता चला है  कि जब तक कोई नया अद्यक्ष नहीं चुना जाता तब तक के लिए पार्टी के वरिष्ठ नेता मोतीलाल वोरा को यह जिम्मेदारी सौंपी गई है. मोतीलाल वोरा कांग्रेस के अन्तरिम अध्यक्ष के तौर पर कार्य करेंगे.

4 जुलाई: पुण्यतिथि हिंदुत्व के अमर स्तम्भ स्वामी विवेकानंद जी.. स्वामी जी ने कहा था- एक हिन्दू का धर्मांतरण एक शत्रु का बढ़ना है

राहुल गाँधी ने हार की जिम्मेदारी लेते हुए इस्तीफा देते हुए अपना दुःख भी प्रकट किया है कि इस्तीफा के पेशकश के बाद उनके पार्टी का कोई भी नेता इस हार कि जिम्मेदारी लेने को तैयार नहीं.

राजस्थान के मुख्यमंत्री अशोक गहलोत, मध्यप्रदेश के मुख्यमंत्री कमलनाथ और पार्टी के कई बड़े नेता ने राहुल गाँधी से मिलकर उन्हें बहुत मनाने कि कोशिश कि पर राहुल गाँधी ने किसी कि नहीं सुनी.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW