कांग्रेस के बाद एक और बड़ी पार्टी में बगावत.. सांसद बोला- क्यों कर रहे हो 370 हटने का विरोध ?

मोदी सरकार द्वारा कश्मीर से धारा 370 हटाए के बाद कांग्रेस पार्टी में पड़ी फूट के बाद अब एक और बड़े राजनैतिक दल में बागवत हो गई है. ये वो राजनैतिक दल है, जिसकी मुखिया खुद को कथित सेक्यूलरिज्म की राजनीति का सबसे बड़ा पुरोधा मानती हैं तथा इसके लिए हिन्दू आस्थाओं से खिलवाड़ करने से नहीं झिझकतीं. हम बात कर रहे हैं पश्चिम बंगाल में सत्तारूढ़ दल तृणमूल कांग्रेस की. आपको बता दें कि तृणमूल कांग्रेस के एक सांसद से पार्टी लाइन से अलग हटकर कश्मीर से 370 हटाए जाने का समर्थन किया है.

तृणमूल कांग्रेस पार्टी के वरिष्ठ नेता और राज्यसभा के मुख्य सचेतक सुखेंदु शेखर रे ने एक ट्वीट कर अनुच्छेद 370 के प्रावधानों को निरस्त करने का समर्थन किया है. सुखेंदु शेखर रे ने सोमवार को ट्वीट किया, “दशकों पुरानी कॉमेडी ऑफ एरर्स को अब दुरुस्त किया जा रहा है. आज यह एक गड़गड़ाहट थी. आने वाले दिनों में और भी हैं. बदलाव ही हमारे राष्ट्रीय जीवन की पहिया है. हम नश्वर हैं. लेकिन राष्ट्र नहीं है. हमें बीते हुए कल का गाना नहीं गाना चाहिए. इसे आज और आने वाला कल होना चाहिए.”

रे के विचार पार्टी प्रमुख ममता बनर्जी के विचारों से भी विपरीत हैं, जिन्होंने कहा था कि उनकी पार्टी जम्मू-कश्मीर पुनर्गठन विधेयक का कड़ा विरोध करती है. उन्होंने कहा था कि वह किसी भी हालात में इसका समर्थन नहीं करेंगी. ममता बनर्जी ने यह भी कहा कि जम्मू और कश्मीर को विशेष दर्जा देने वाले संवैधानिक प्रावधानों को खत्म करने के निर्णय से पहले केंद्र को सभी राजनीतिक दलों से परामर्श करना चाहिए था लेकिन अब उन्हीं के सांसद ने पार्टी के खिलाफ जाते हुए धारा 370 हटाए जाने का समर्थन किया है.

Share This Post