तबरेज अंसारी की मौत को मॉब लिंचिंग बता कर हिन्दुओ को बदनाम और चुनौती देने वालों की पोल खोली झारखंड पुलिस ने. क्या वो होंगे शर्मिंदा ?

इस मामले को ले कर लगातार पहले तो सरकार के ऊपर और उसके बाद हिन्दू समाज के ऊपर आरोप लगाए जा रहे थे . कटघरे में खड़ा करने की कोशिश थी हिन्दुओ को और इस प्रकार से मामले को पेश किया जा रहा था जैसे कि मॉब लिंचिंग का शिकार हमेशा एक ही वर्ग होता है और हिन्दू समाज के लोग पहले से ही तैयारी में बैठे रहते हैं .यहाँ पर हिन्दू विरोध की कुछ नेताओं की उस दृढ़ता के बारे में सोचना होगा जो राजनैतिक रूप से खत्म होना तो स्वीकार कर सकते हैं पर हिन्दुओ का विरोध नहीं त्याग सकते ..

मेरठ में जारी है मजहबी उन्मादियों का आतंक.. हिन्दुओं के पलायन की खबरों के बीच मंदिर में कीर्तन कर रही महिलाओं पर उन्मादियों का हमला, बरसाईं गोलियां

लगातार तबरेज अंसारी के नाम पर जिस प्रकार से जरूरत से ज्यादा हल्ला मचाया जा रहा था आख़िरकार उसकी रिपोर्ट ने सबको शर्मिंदा होने पर मजबूर कर दिया है . यद्दपि आशा कम ही है कि वो शर्मिंदा होंगे.. तबरेज के मामले में ही ओवैसी ने सरकार पर सवाल खड़े किये थे तो प्रदर्शन के दौरान एक मौलाना अहमद काज़मी ने मुसलमानों के घरों में तो हथियार होने की बात कह डाली और आने वाले समय में चिंगारी द्वारा दिल्ली तक को जला देने की बात कही है ..

सहारनपुर में 2 अधिकारियों को बुरी तरह पीटा सपा नेता ने.. गुनाह दबाया जा रहा “बैट” के शोर में

अब झारखंड पुलिस ने उन सभी साजिशकर्ताओं को अपनी रिपोर्ट से वो जवाब दिया जिसके बाद भी आशा नहीं है कि वो एक बार भी शर्मिंदा होंगे .. झारखंड में सरायकेला के धातकीडीह गांव में चोरी के आरोप में तबरेज अंसारी नाम के युवक की पिटाई और बाद में उसकी मौत के मामले पर पुलिस ने एक फिर अपना रुख स्पष्ट करते हुए कहा है कि तबरेज की मौत को मॉब लिंचिंग (उन्मादी भीड़ की हिंसा) का मामला नहीं है।

जनसंख्या नियंत्रण क़ानून के लिए सफलता की तरफ सुरेश चव्हाणके जी का अथक प्रयास.. उत्तराखंड सरकार ने पंचायत चुनाव में लागू किया इसे

सरायकेला के एसपी कार्तिक एस ने कहा है कि इस मामले में कई गलत वीडियो वायरल कर भी अफवाह फैलाते हुए माहौल बिगाडऩे की कोशिश हो रही है। पुलिस सोशल मीडिया पर भी नजर रख रही है।  तबरेज को पीटने वालों पर कड़ी कार्रवाई होगी। वहीं अफवाह फैलाने वालों को भी बख्शा नहीं जाएगा। रायकेला के उपायुक्त भी सरकार को भेजी गई अपनी रिपोर्ट में कह चुके हैं कि यह घटना मॉब लिंचिंग नहीं। सरायकेला के एसपी कार्तिक एस ने कहा कि धातकीडीह के लोगों ने बाइक चोरी के आरोप में तबरेज अंसारी से मारपीट की थी।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं

Share This Post