Breaking News:

मोदी जी की रैली में जाना कर रहा उनकी जिंदगी तबाह.. पढ़िए नफरत की इंतिहा का एक और प्रमाण

कुछ मजहब के ठेकेदार नहीं चाहते की महिलाये सबल हो। कुछ मज़हब के ठेकेदार नहीं चाहते की महिलाये उनके साथ कंधा से कंधा मिलाकर चले। कुछ मजहबी लोग नहीं चाहते की मुस्लिम महिलाये मुख्यधारा से जुड़े। गौरतलब हो की प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी अपने दो दिवसीय दौरे पर संसदीय क्षेत्र बनारस में 22-23 सितम्बर को पहुचेंगे।

पीएम मोदी अपनी सभी परियोजनाओं को जनता को समर्पित तो करेंगे ही साथ ही तीन तलाक में मुस्लिम महिलाओं को जीत दिलाने के बाद उनसे डीएलडब्ल्यू के ऑडिटोरियम में संवाद करेंगे और सभी अनुदानित और गैर अनुदानित मदरसों को जो लेटर भेजे गए हैं उसमें लिखा है कि, आगामी 22 सितंबर को पीएम मोदी का वाराणसी के डीएलडब्ल्यू प्रेक्षागृह में अल्पसंख्यक महिलाओं के साथ संवाद का कार्यक्रम है। महिलाओं को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचाने का जिम्मा मदरसों को दिया जा रहा है। मदरसे से कम से कम 25-25 महिलाओं को कार्यक्रम स्थल पर पहुंचाएं।
आपको बताते चले की योगी सरकार ने सभी मदरसों को बकायदा सर्कुलर भी जारी किया गया है जिसमें 25-25 महिलाओं को साथ लाना था पर कहते हैं न अच्छे कामों को रोकने वाले हमेशा तैयार रहते हैं और जाने भी कैसे दे उनके जुल्मो का पोल जो खुल जाएगा देश के प्रधान सेवक नरेंद्र मोदी के पास और जिस तरह से मोदी महिलाओ के हक़ के लिए हमेशा खड़े मिलते हैं उस से मज़हब के ठेकेदारों को दिक्कत आयेगी, नका दूकान बंद हो जायेगा।
आपको बता दें कि अब जो महिलाएं पीएम के संवाद कार्यक्रम में जाना चाह रहीं हैं उनको अब तमाम संगठन और परिजनों के माध्यम से धमकियां मिल रही हैं कि आपको प्रधानमंत्री के कार्यक्रम में नहीं जाना है। कई संगठन तो मारने तक की धमकी दे रहे हैं। वो डरा रहे उन महिलाओं जो अपना दर्द प्रधानमंत्री को बताना चाहती हैं। मजहबी ठेकेदार नहीं चाहते है की उनकी घर की महिलाये विकास में भागीदारी करे और उन्होंने इस मसले पर विवाद खड़ा कर दिया हैं। जिसके बाद इस फैसले पर अब रोक लगा दी गयी हैं। 
Share This Post

Leave a Reply