जानिए क्या है शारदा चिटफंड घोटाले का राजीव कुमार कनेक्शन, जिसके लिए बंगाल में सीबीआई के खिलाफ तनकर खड़ी हो गई हैं ममता बनर्जी

  1. पश्चिम बंगाल के बहुचर्चित सारदा चिटफंड घोटाले लेकर कोलकाता के पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार से पूछताछ करने पहुंची सीबीआई की टीम को लेकर सियासी ड्रामा जारी है. पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री जो स्वयं शारदा घोटाले की चपेट में हैं, खुलकर पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार के समर्थन में आ गई हैं तथा सीबीआई के खिलाफ खड़ी हो गई हैं. रविवार को बंगाल में ममता सरकार का हैरान करने वाला तानाशाही रवैया उस समय देखने को मिला जब रविवार की शाम को कोलकाता पुलिस ने सीबीआई को ही हिरासत में ले लिया. आश्चर्यजनक रूप से इसके बाद पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री धरने पर बैठ गई हैं उनके साथ पुलिस कमिश्नर राजीव कुमार भी बैठे हुए हैं.

जानते हैं कि क्या है सारदा चिटफंड घोटाला–

आपको बता दें कि सारदा चिटफंड घोटाला 40,000 करोड़ रुपये का है. इसमें 34 गुना ज्यादा वापस करने के वादे का साथ क़रीब 10 लाख लोगों से पैसे लिए गए. जिसमें पश्चिम बंगाल, ओडिशा, असम के लोग शामिल थे. बाद में कंपनी के लोग पैसे लेकर फरार हो गए. इसमें कई राजनीतिक दलों के नेताओं का नाम सामने आए. साल 2014 में सुप्रीम कोर्ट ने दिया CBI जांच के आदेश दिए. इस घोटाले की आंच पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी तक भी पहुंच चुकी है.

सारदा घोटाले का राजीव कुमार कनेक्शन

राजीव कुमार कोलकाता पुलिस कमिश्नर हैं. वो 2016 में कोलकाता के पुलिस कमिश्नर बनाए गए. राजीव कुमार 1989 बैच के IPS अफ़सर हैं. वो 2013 में सारदा और रोज़ वैली चिटफंड घोटाले की जांच के लिए बनाई गई SIT के चीफ़ रहे. आरोप है कि राजीव कुमार ने जांच की गति धीमी की, और सूबतों से छेड़छाड़ की. CBI इन्हीं चिटफंड घोटाले के सिलसिले में आलोक पूछताछ करने पहुंची थी. सीबीआई का कहना है कि वो पूछताछ में सहयोग नहीं कर रहे हैं. लेकिन इससे पहले कि सीबीआई राजीव कुमार से पूंछताछ करती, बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी भड़क उठी. देखते ही देखते सीबीआई अधिकारियों को हिरासत में ले लिया गया तथा सीबीआई के खिलाफ ममता बनर्जी धरने पर बैठ गई. फिलहाल अब सीबीआई सुप्रीम कोर्ट में रविवार को हुई घटना पर याचिका दाखिल की है तथा कोर्ट में इस मामले पर सुनवाई जारी है. मिली जानकारी के मुताबिक सीबीआई ने सुप्रीम कोर्ट में बंगाल के चीफ सेकेट्री, DGP और कोलकाता के पुलिस आयुक्त राजीव कुमार के खिलाफ अवमानना की अर्जी दाखिल की है. दूसरी अर्जी सबूतों से  छेड़छाड़ के आरोप में कार्यवाई के लिए दाखिल की गई है. साथ ही अर्जी में सीबीआई राजीव कुमार को जांच में शामिल होने के निर्देश की भी मांग की गई है.  खबर लिखे जाने के समय तक सुप्रीम कोर्ट ने सुनवाई को कल तक टाल दिया है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW