कभी निर्दोष साध्वी प्रज्ञा से जेल में मिलने वालों विरोध करने वाले अब खुद जेल में मिलने गये भ्रष्टाचार के आरोपी पी चिदम्बरम से

ये उनके ऊपर था कि वो किस को अपनी ताकत के दम पर क्या न कह दें . उन्होंने जिसको चाहा आतंकी कहा था , जिसको चाहा दंगाई कहा था.. किसी को भगवा आतंकी कहा तो किसी को मौत का सौदागर भी. उनकी सरकार थी , उनका मन था.. ठीक वैसे ही जैसे इफ्तारी उनके लिए धार्मिक एकता का प्रतीक थी तो मन्दिर के भंडारे साम्प्रदायिक.. फिलहाल एक बार फिर से तोड़े गये हैं अपने ही बनाए गये नियम और एक बार फिर से जेल शब्द चर्चा में आ गया है .. वो जेल है तिहाड़ की जहाँ बंद हैं चिदम्बरम ..

विदित हो कि कभी भगवा आतंकवाद का झूठा हौव्वा पैदा कर के साध्वी प्रज्ञा के साथ कई फौजी अधिकारियो को जेल भेज देने वाले कांग्रेस के नेताओ ने उन लोगों पर भी अपनी सरकार को नजर रखने के लिए निर्देश दिए थे जो उनसे जेल में मिलने जाते थे . अभी भी साध्वी प्रज्ञा से सहानभूति के तौर पर जेल में उस समय मिलने गये कई लोगों पर कांग्रेस आरोपों के वार करती रहती है जबकि ये सर्वविदिति है कि साध्वी प्रज्ञा का अमानवीय टार्चर किया गया था और खुद प्रज्ञा सिंह के अनुसार ये टार्चर सत्ता के इशारे पर था..

अब उन्ही कांग्रेस के नेताओं ने अपने खुद के बनाये नियम तोड़ दिए हैं और जेल में भ्रष्टाचार के आरोप में बंद पी चिदंबरम से मिलने गये हैं.. यहाँ ये ध्यान रखने योग्य है कि पी चिदंबरम का प्रज्ञा सिंह की तरह टार्चर भी नहीं हुआ और उनसे मात्र सामान्य पूछताछ की गई है..इसके बाद भी कांग्रेस का एक भ्रष्टाचार के आरोप में जेल में बंद नेता से मिलने जाना कहीं न कहीं साबित करता है कि कांग्रेस खुद से ही खुद के बनाए नियम तोड़ने में विश्वास रखती है .. वो भी सर्वोच्च स्तर पर..

कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी तिहाड़ जेल में बंद कांग्रेस नेता पी चिदंबरम से मिलने पहुंचीं। उनके साथ पूर्व प्रधानमंत्री मनमोहन सिंह भी थे। पूर्व वित्त मंत्री ने इसके लिए दोनों नेताओं का आभार जताते हुए कहा है कि जब तक कांग्रेस पार्टी मजबूत है तब तक वह भी मजबूत और हिम्मती बने रहेंगे। इससे पहले सोमवार को ही कार्ति चिदंबरम भी पिता से मिलने तिहाड़ पहुंचे। पिता से मिलने के बाद कार्ति चिदंबरम ने कहा, ‘कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी और पूर्व प्रधानमंत्री डॉ. मनमोहन सिंह सिंह के तिहाड़ आकर मिलने पर मेरे पिता उनके शुक्रगुजार हैं..

 

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे लिंक पर जाएँ –

http://sudarshannews.in/donate-online/


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share