गाय के रक्षको को गुंडा बोला गया पर गौ वंश का नाम ले कर जो सपा ने विधानसभा में किया वो क्या है ?

अभी उस घटना को ज्यादा समय नहीं बीता है जब गौ माता के नाम पर संसद में कोहराम मचाया गया था और यहाँ तक कि उनको गुंडा जैसे शब्दों से सम्बोधित कर डाला गया था . हालात ये बना दिए गये थे कि ट्रेन में हुए सीट के लिए झगड़े तक को गौ माता से जोड़ डाला गया और उस समय अदालतें भी तत्काल संज्ञान लेने लगी . स्थिति इतनी बुरी बना दी गयी थी कि गौ रक्षको से केन्द्रीय मंत्री तक का मिलना भी विवाद बनाया गया ..

लेकिन अब उत्तर प्रदेश विधानसभा में समाजवादी पार्टी ने उसी गौ माता को बना डाला राजनीति का मुद्दा ..  उत्तर प्रदेश में विधानसभा में मंगलवार को जोरादार हंगामा देखने को मिला। विधानसभा का बजट सत्र राज्यपाल के अभिभाषण के साथ शुरू हो गया लेकिन सदन के भीतर समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी के विधायकों ने जोरदार नारेबाजी की। यहां तक कि राज्यपाल राम नाईक के अभिभाषण के दौरान विपक्षी सदस्यों ने उनकी ओर कागज के गोले भी उछाले।

राज्यपाल जैसे ही सदन के भीतर अभिभाषण के लिए दाखिल हुए तभी विपक्षी सदस्यों ने हंगामा शुरू कर दिया। सपा-बसपा के विधायकों ने ‘राज्यपाल वापस जाओ’ के नारे लगाये और उनकी तरफ कागज के गोले फेंके। हंगामे के बीच राज्यपाल ने करीब 55 मिनट में पूरा अभिभाषण पढ़ा और प्रदेश सरकार की योजनाओं और उपलब्धियों का सिलसिलेवार ब्यौरा पेश किया।

सपा के विधायक तो गाय-सांड़ के कटआउट और पोस्टर लेकर सदन में आए थे। यहाँ ये तक ध्यान नहीं रखा गया कि ये गौ माता ही करोड़ों हिन्दुओ की आस्था का केंद हैं . इन पोस्टरों पर योगी सरकार को निशाना बनाते हुए स्लोगन लिखे गए थे। सदस्यों के हाथों में ‘सांड़ और किसान, दोनों परेशान’, ‘गठबंधन से घबराये हैं, सीबीआई ईडी लाये हैं’, ‘झूठे वादे बंद करो, मुख्यमंत्री शर्म करो’, ‘खेत बचाओ सांड़ों से, देश बचाओ चोरों से’ जैसे नारे लिखे थे।

Share This Post