संघ का सबसे ज्यादा विरोध करने वाले शरद पवार की NCP ने पकड़ी नई राह

लोकसभा चुनाव 2019 में विपक्षी दलों को देश की जनता ने अपने वोट से ऐसी करारी मात दी है, जिसके सदमे से वो अभी तक निकल नहीं पा रहे हैं. चुनाव परिणामों के बाद लगभग सभी विपक्षी दलों में खलबली मची हुई है तथा वो हार की समीक्षा में लगे हुए हैं. इस बीच राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ आरएसएस का सबसे प्रखर विरोध करने वाले एनसीपी चीफ शरद पवार ने पार्टी कार्यकर्ताओं से चौकाने वाली बात कही है.

पिता द्वारा लिए कर्ज को जब 18 साल बाद बेटा लौटाने गाँव आया तो हर कोई हो गया भाव विह्वल

एनसीपी मुखिया शरद पवार ने चुनाव में हार के बाद आरएसएस की राह पर चलने का मन बनाया है. उन्होंने तमाम पार्टी कार्यकर्ताओं को सुझाव दिया है कि वह आरएसएस की तर्ज पर चुनाव प्रचार करें और लोगों के घर-घर जाकर उनसे बात करें, साथ ही पार्टी के संदेश को उनतक पहुंचाएं. कार्यकर्ताओं को संबोधित करते हुए पवार ने कहा कि अभी से चुनाव प्रचार शुरू कर देना चाहिए और पार्टी के कार्यकर्ताओं को लोगों के घर जाकर उनसे मिलना चाहिए.

मुस्लिम डॉक्टर के पास आती थी कोई अन्य धर्म की महिला तो वो कर देता था कुछ ऐसा कि वो पैदा न कर सके बच्चे.. बहुत कुछ हुआ सेक्यूलरिज्म के नाम पर

शरद पवार ने कहा कि अगर हम यह आज से ही करना शुरू कर दें तो महाराष्ट्र विधानसभा चुनाव के दौरान मतदाता यह नहीं कहेंगे कि आप अब हमे क्यों याद कर रहे हैं. हमे देखना चाहिए कि आरएसएस के लोग किस तरह से चुनाव प्रचार करते हैं. आरएसएस के लोग चुनाव प्रचार के दौरान अगर पांच लोगों के घर जाते हैं और उनके घर पर ताला लगा है तो वह दोबारा उनके घर जाते हैं. वह इस बात को सुनिश्चित करते हैं कि पार्टी का संदेश लोगों तक हर हाल में पहुंचे. आरएसएस के लोगों को यह अच्छी तरह से पता है कि उन्हें लोगों के संपर्क में कैसे रहना है.

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं-

Share This Post