सुदर्शन ने बताया था कि ट्रेन हादसे हैं एक आतंकी साजिश…. आखिरकार साबित हुआ ये खुलासे से

लखनऊ में एक बड़े रेल हादसे की साजिश नाकाम हो गयी और रविवार को रेलवे कर्मचारियों की सूझबूझ व समझदारी से रेल हादसा होने से बच गया।

ट्रैक निरक्षण करते समय रेलवे कर्मचारियों ने देखा कि डालीगंज से बादशाह नगर के बीच पटरी और स्लीपर को जोड़ने वाली 308 पेंडोल क्लिप्स गायब मिलीं। सुरक्षा की नजरिये से तुरंत ही रेलवे कर्मचारियों ने आवा जाहि में सभी ट्रेनों को रोक दिया गया।

बता दें कि निरीक्षण के लिए लखनऊ आए पूर्वोत्तर रेलवे के जीएम को जैसे ही घटना की जानकारी मिली वह मौके पर पहुंच गए।

उन्होंने घटना की जांच के साथ एफआईआर दर्ज करने के आदेश दे दिए हैं। ट्रैक की मरम्मत करके चालू कर दिया गया है। रेलवे गैंग मैन ने बताया कि वह रविवार को सुबह करीब साढ़े चार बजे ट्रैक निरीक्षण पर निकले थे और गहन निरक्षण से पता चला कि ट्रैक की पेंडोल क्लिप्स गायब थीं।

गौरतलब है कि घटना की जानकारी मिलते ही रेलवे के कई बड़े अधिकारी मौके पर पहुंच गए और ट्रेनों को लखनऊ से पहले ही रोक दिया गया।

रेलवे कर्मचारियों के कई घंटों की मशक्कत के बाद कर्मचारियों ने ट्रैक को सही कर दिया और ट्रेनों का आवागमन शुरू हो सका। इस विषय पर पूर्वोत्तर रेलवे के जीएम राजीव अग्रवाल ने आतंकी साजिश की आशंका जताई है। रेलवे ने महानगर थाने में रिपोर्ट दर्ज कराई है। रेलवे कर्मचारियों के जांच से पता चला की पेंडोल क्लिप्स झाड़ियों में फेंकी हुई थी। लगता है कि पेंडोल क्लिप्स ट्रैक से गायब करके आंतकी लोग किसी बड़े हादसे को अंजाम देना चाहते थे। जिसे पूर्वोत्तर रेलवे लखनऊ मंडल के अधिकारियो ने समझदारी से बड़े हादसे को रोक दिया गया और आँतकी के साजिश को नाकाम कर दिया। 

Share This Post

Leave a Reply