“चौकीदार चोर है” का राहुल गांधी का नारा प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी के लिए अग्निपरीक्षा के समान था.. हंगामा इतना हुआ कि फ़्रांस से रिश्तों तक पर पड़ा असर.. अब सुप्रीम कोर्ट ने किया न्याय

राफेल डील को लेकर जिस तरह से कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी ने प्रधानमन्त्री श्री नरेद्र मोदी जी को निशाना बनाया तथा “चौकीदार चोर है” का नारा दिया, उसको सुप्रीम कोर्ट ने एक झटके में ख़ारिज कर दिया है. राफेल डील की जांच को लेकर लगाई गई सभी याचिकाओं को खारिज करते हुए सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि न तो राफेल डील में किसी तरह की कोई खामी है और न ही राफेल की गुणवत्ता में कोई कमी है, इसलिए राफेल डील की जांच की कोई आवश्यकता नहीं है.

मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई, जस्टिस संजय किशन कौल और जस्टिस केएम जोसेफ की तीन सदस्यीय पीठ ने ये फैसला दिया. कोर्ट ने कहा कि राफेल अधिग्रहण की प्रक्रिया की जांच करने के लिए यह अदालत का मामला नहीं है. मुख्य न्यायाधीश रंजन गोगोई ने कहा, ‘कोर्ट का ये काम नहीं है कि वो निर्धारित की गई राफेल कीमत की तुलना करे. हमने मामले की अध्ययन किया, रक्षा अधिकारियों के साथ बातचीत की, हम निर्णय लेने की प्रक्रिया से संतुष्ट हैं तथा यह कहना चाहते हैं कि राफेल डील में कोई खामी नहीं है.

कोर्ट ने यह भी कहा कि पहले का सौदा आगामी नहीं था और नया सौदा वित्तीय फायदे के साथ आया है. कोर्ट ने कहा कि नियम के मुताबिक ऑफसेट पार्टनर विक्रेता द्वारा तय किया जाना था, न कि केंद्र सरकार द्वारा. कोर्ट ने ये भी कहा कि हम इस फैसले की जांच नहीं कर सकते कि 126 राफेल की जगह 36 राफेल की डील क्यों की गई. हम सरकार से ये नहीं कह सकते कि आप 126 राफेल खरीदें. जस्टिस रंजन गोगोई ने कहा, ‘हम पहले और वर्तमान राफले सौदे के बीच की कीमतों की तुलना करने के लिए न्यायिक समीक्षा की शक्तियों का उपयोग नहीं कर सकते हैं.’

बता दें कि कांग्रेस अध्यक्ष राहुल गांधी राफेल डील मामले को लेकर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर लगातार सवाल खड़े करते रहे हैं. इतना ही नहीं, राहुल गांधी लगातार चुनावी अभियान में कहा करते थे कि देश का ‘चौकीदार चोर’ है. इस नारे के जरिए राहुल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी पर सवाल खड़े कर रहे थे. राहुल गांधी सीधे-सीधे पीएम मोदी को राफेल डील मामले में भ्रष्टाचार करने का आरोप लगा रहे थे. इतना ही नहीं इस डील के जरिए अनिल अंबानी को फायदा पहुंचाने का आरोप खुले आम लगा रहे थे. लेकिन अब सुप्रीम कोर्ट के फैसले से राहुल गांधी के “चौकीदार चोर है” के  नारे की हवा निकल गई है. कोर्ट के फैसले के बाद  जहाँ भाजपा तथा प्रधानमन्त्री मोदी राहत महसूस कर रहे होंगे तो वहीं  कांग्रेस के लिए ये एक बड़ा झटका है. राफेल के बहाने राहुल सीधे सीधे प्रधानमन्त्री मोदी को भ्रष्ट करार दे रहे थे लेकिन सुप्रीम कोर्ट के फैसले के बाद अब भाजपा कांग्रेस पर हमलावर होगी तथा खुद प्रधानमन्त्री मोदी इस को कांग्रेस के खिलाफ मुद्दा बना सकते है कि उन पर झूठे आरोप लगाकर उन्हें बदनाम करने का प्रयास किया गया.

Share This Post

Leave a Reply