Breaking News:

सुप्रीम कोर्ट ने तीन तलाक का मामला संवैधानिक पीठ को सौंपा, रोज होगी सुनवाई

नई दिल्ली : तीन तलाक का मामला सुप्रीम कोर्ट ने संवैधानिक पीठ को भेज दिया है। संविधान पीठ 11 मई से रोज इस मामले पर सुनवाई शुरू करेगी। अब संविधान पीठ लगातार दोनों पक्ष को सुनेंगे। सुप्रीम कोर्ट ने कहा है कि दोनों पक्ष चार हफ्ते में अपना जवाब दाखिल करें।

बता दें कि इससे पहले 27 मार्च को ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कोर्ट से कहा कि मुसलमानों में प्रचलित तीन तलाक, निकाह हलाला और बहुविवाह की प्रथाओं को चुनौती देने वाली याचिकाएं विचारयोग्य नहीं हैं क्योंकि ये मुद्दे न्यायपालिका के दायरे में नहीं आते हैं। इस पर कोर्ट ने कहा कि मामला बेहद महत्वपूर्ण है इस वजह से गर्मी की छुट्टियों में भी मामले की सुनवाई होगी।

चीफ जस्टिस ने सभी पक्षों को 2 सप्ताह में अपना जवाब दायर करने को कहा है। जिसके बाद कोर्ट ने 11 मई की तारीख तय की। बोर्ड ने कहा कि इस्लामी कानून, जिसकी बुनियाद अनिवार्य तौर पर पवित्र कुरान एवं उस पर आधारित सूत्रों पर पड़ी है, की वैधता संविधान के खास प्रावधानों पर परखी नहीं जा सकती है। इनकी संवैधानिक व्याख्या जबतक अपरिहार्य न हो जाए, तबतक उसकी दिशा में आगे बढ़ने से न्यायिक संयम बरतने की जरूरत है।

वहीं, ऑल इंडिया मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड ने कहा कि 16 फरवरी को सुप्रीम कोर्ट ने आदेश में कहा था कि तमाम पक्षकार इस मामले में लिखित जवाब पेश करें। इसके तहत कई सवाल मुस्लिम पर्सनल लॉ बोर्ड की ओर से कोर्ट के सामने रखे गए। कहा गया कि क्या ये ट्रिपल तलाक आदि के खिलाफ दाखिल याचिका विचार योग्य है, क्या पर्सनल लॉ को मूल अधिकार की कसौटी पर टेस्ट हो सकता है? क्या कोर्ट धर्म और धार्मिक लेख की व्याख्या कर सकता है?

Share This Post