अब गर्मियों की छुट्टियों में भी नियमित रूप से काम करेगा सुप्रीम कोर्ट

नई दिल्ली : देश बदल रहा है आगे बड़ रहा है। जी हां ये ठीक ही है क्योंकि जहां सुप्रीम कोर्ट के जजों पर ये आरोप लगता रहा है कि लंबित मामलों की तादाद लगातार बढ़ते रहने के बावजूद वे लंबे वक्त तक गर्मी की छुट्टियों पर रहते हैं। 67 साल के इतिहास में पहली बार सर्वोच्च अदालत एक नई पहल करने वाली है।

इन गर्मियों में पांच जजों वाली तीन बेंच नियमित रूप से हर दिन काम करेगी और राष्ट्रीय महत्व से जुड़े मुद्दों का निपटारा करने की कोशिश करेगी। सुप्रीम कोर्ट का 50 दिन लंबा समर ब्रेक हमेशा से जुडिशरी के आलोचकों के निशाने पर रहा है। ऐसे में चीफ जस्टिस जेएस खेहर ने एक नई पहल की है।

खेहर ने गुरुवार को ऐलान किया कि ट्रिपल तलाक की संवैधानिक वैधता को चुनौती देने वाली याचिकाओं पर कोर्ट की पांच सदस्यीय बेंच 11 से 19 मई तक सुनवाई करेगी। चीफ जस्टिस ने ये भी कहा कि अगर वकील राजी हों तो कोर्ट मामले की सुनवाई के दौरान पड़ने वाले शनिवार और रविवार को भी काम करने को तैयार है।

Share This Post