BHU की दीपिका को सुषमा स्वराज ने दिलाई थी अमेरिका में मदद….

अमेरिका में पति के निधन के बाद संकट में फंसी बीएचयू की छात्रा दीपिका चौबे का वतन आने का रास्ता सुषमा स्वराज की मदद से ही संभव हो सका था.

आजमगढ़ के जयरामपुर गांव की निवासी और बीएचयू की छात्रा रही दीपिका पति हरिओम संग 2013 में अमेरिका गई थी. सब ठीक चल रहा था, लेकिन करवाचौथ 19 अक्टूबर 2016 वाले दिन दीपिका के पती हरिओम का हृदयाघात से निधन हो गया था. उसके बाद दीपिका एकदम अकेली हो गई थी. उस वक्त वह गर्भवती भी थी और उसके पास इलाज तक के कोई पैसे नहीं थे. ऐसे में उसके पति हरिओम के मित्रों ने उसकी मदद की और उसे बोस्टन से न्यूजर्सी लाया गया. न्यूजर्सी में ही दीपिका ने सात नवंबर को बेटी को जन्म दिया था. उसके बाद सबसे बड़ा संकट था कि नवजात बेटी अमेरिकी पासपोर्ट और ओसीआई के बगैर भारत नहीं आ सकती थी और ऐसे स्तिथि में उसके पास और कोई रास्ता नहीं था.

वाराणसी में कैंसर अस्पताल में तैनात रहे दीपिका के भाई अजय कुमार चौबे ने रविंद्रपुरी स्थित पीएम के संसदीय कार्यालय में पत्र के माध्यम से मदद मांगी और दीपिका ने स्वदेश वापसी के लिए प्रधानमंत्री मोदी और विदेश मंत्री सुषमा स्वराज को ट्वीट कर अपने बहन के मदद की गुहार लगाई थी. विदेश मंत्री सुषमा स्वराज ने ट्वीट के संज्ञान लेकर उसी दिन अमेरिका में भारतीय दूतावास को दीपिका की मदद के निर्देश दिए थे. स्वराज के निर्देश के बाद दीपिका की बेटी का पासपोर्ट और ओसीआई ओवरसीज सिटीजन ऑफ इंडिया कार्ड बन गया था. इसके बाद 30 नवंबर को दीपिका स्वदेश आ सकी थीं.

Share This Post