Breaking News:

हरीश साल्वे जी! कुलभूषण जाधव केस की अपनी 1 रूपये फीस ले जाना.. निधन से एक घंटे पहले साल्वे से बोलीं थी सुषमा स्वराज जी

पूर्व विदेश मंत्री तथा भारतीय जनता पार्टी की कद्दावर नेता सुषमा स्वराज जी का निधन हो गया है. सुषमा स्वराज के निधन के बाद पूरा भारत गमगीन है अपनी लोकप्रिय नेता को नम आँखों से श्रद्धांजलि दे रहा है. कल जब पूरा देश कश्मीर से 370 हटाए जाने का जश्न मना रहा था तभी रात्रि को अचानक से सुषमा स्वराज के निधन की खबर सामने आई. पहली बार में किसी को विश्वास ही नहीं हुआ कि सुषमा जी नहीं रही लेकिन ये सच था कि हर्ट अटैक के कारण सुषमा जी दुनिया छोड़ चुकी थी.

दिल का दौरा पड़ने के बाद सुषमा स्वराज को नई दिल्‍ली के एम्‍स में भर्ती कराया गया था, जहां उन्‍होंने अंतिम सांस ली. निधन से कुछ ही घंटों पहले उन्‍होंने प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी को ट्विटर पर जम्‍मू कश्‍मीर में हुए बड़े बदलाव को लेकर बधाई दी थी. लेकिन निधन से मात्र एक घंटे पहले उन्‍होंने अंतरराष्‍ट्रीय न्‍यायालय में कुलभूषण जाधव मामले में भारत की ओर से पैरवी करने वाले दिग्‍गज वकील हरीश से बातचीत की थी, जिसमें उन्‍होंने साल्‍वे से भारत आकर अपनी ‘1 रुपए’ की फीस लेकर जाने को कहा था.

सुषमा स्‍वराज के निधन के बाद एक अंग्रेजी चैनल से बातचीत में हरीश साल्‍वे ने कि निधन से करीब एक घंटे पहले करीब रात 8:50 बजे उनसे बात की. यह एक बहुत ही भावनात्मक बातचीत थी. उन्होंने कहा, आओ और मुझसे मिलो. जो केस आपने जीता उसके लिए मुझे आपको आपका एक रुपया देना है. मैंने कहा कि बेशक मुझे वह कीमती फीस लेने के लिए आना है. उन्होंने कहा कि कल 6 बजे आना.’ लेकिन स्‍वराज साल्‍वे की यह 1 रुपए की फीस न अदा कर सकीं और देवलोकवासी हो गईं.

पाकिस्‍तान की जेल में बंद और फांसी की सजा पा चुके भारतीय कुलभूषण जावध का अंतरराष्‍ट्रीय न्‍यायालय में केस हरीश साल्‍वे ने ही लड़ा है, जिसमें भारत को जीत हासिल हुई है. साल्‍वे ने इस केस के लिए 1 रुपए फीस चार्ज की है. भारत द्वारा कुलभूषण जाधव मामले में हासिल की गई जीत पर सुषमा स्‍वराज ने ट्वीट किया था. उन्‍होंने लिखा था कि  ‘जाधव मामले में मैं जी जान से अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय के फैसले का स्वागत करती हूं. यह भारत के लिए एक महान जीत है.’ उन्होंने मामले को अंतर्राष्ट्रीय न्यायालय में असरदार तरीके से केस लड़ने के लिए वकील हरीश साल्वे को भी धन्यवाद कहा था.

 


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share