कम्युनिस्ट पार्टी को ट्रंप के “इस्लामिक आतंक” शब्द पर आपत्ति… वामपंथी बोले- मोदी ने भी सीख लिया है ट्रंप से वहीं शब्द

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप की दोस्ती पाकिस्तान और चीन के साथ-साथ कुछ विपक्षी पार्टी हजम नहीं कर पा रही है। पहले तो चीन ने पीएम मोदी और ट्रंप की मुलाकात से पहले ही कैलाश मानसरोवर की यात्रा पर रोक लगा दी और महादेव के दर्शन करने वाले यात्रियों के लिए कुछ शर्ते रखी है। वहीं, भारतीय कम्युनिस्ट पार्टी (भाकपा) को भी मोदी और ट्रंप की दोस्ती नहीं पच रही है। 
भाकपा के राष्ट्रीय सचिव डी राजा ने अमेरिका की मुलाकात को लेकर मोदी सरकार पर निशाना साधते हुए कहा कि मोदी ने आतंकवाद और इस्लाम को कथित तौर पर एक रूप से चिन्हित करने वाले अमेरिकी रूख को स्वीकार लिया है। मोदी आतंकवाद और इस्लाम को एक तौर पर चिन्हित करने वाली अमेरिकी अवधारणा को स्वीकार रहे हैं। यह मुद्दे पर भारत के रूख से अलग है। उन्होंने कहा कि इस अवधारणा को स्वीकार कर भारत कथित रूप से अमेरिका के अधीन काम कर रहा है। बता दें कि पीएम मोदी और ट्रंप की मुलाकात से ठीक पहले ही अमेरिका ने पाकिस्तानी आतंकवादी संगठन हिजबुल मुजाहिदीन के नेता सैयद सलाहुद्दीन को वैश्विक आतंकवादी घोषित कर दिया है।
Share This Post