इस दुर्दान्त अपराधी को आज सुनाई जा सकती है सज़ा, पढ़े और बताएं कि कौन सी सजा चाहते है आप इस हत्यारे के लिए?

मुंबई : मुंबई धमाकों के मामले में टाडा कोर्ट में सुनवाई शुरु हो चुकी है। आतंकी अबु सलेम समेत 7 दोषियों के खिलाफ आज फैसला होना है। 2005 में शुरू हुए इस ट्रायल में करीब 12 साल बाद फैसला आएगा। 12 मार्च 1993 को मुंबई में हुए 13 सीरियल बम धमाकों ने देश को हिलाकर रख दिया था। 
इस विस्फोट में 257 लोगों की मौत हो गई थी जबकि 713 गंभीर रूप से घायल हुए थे और इससे 27 करोड़ रुपये की संपत्ति नष्ट हो गई थी। दरअसल, 12 मार्च 1993 मुंबई में अलग जगहों पर 12 बम दागे गए थे, जिसमें करीब 257 लोगों की मौत हुई थी और 713 अन्य लोग घायल हुए। इसके अलावा हमले में 27 करोड़ रुपये की संपत्ति बर्बाद हुयी था।

Image Title

 

बम ब्लास्ट के आरोपी अबू सलेम और मुस्तफा डोसा पुलिस वैन से विशेष टाडा अदालत पहुंच चुका है। इसके अलावा इस केस से संबंधित 1,50,000 दस्तावेज मौजूद हैं जिसमें पहले के मुकदमे का फैसला भी शामिल है। न्यायाधीश जी ए सानाप ने 2012 में मुकदमा चलाया था उनके बयानों की रिकॉर्डिंग के दौरान सात आरोपियों में से हरेक से 14998 सवाल पूछे थे। 
इस हमले में अंडरवर्ल्ड डॉन अबू सलेम, मुस्तफा डोसा, करीमुल्लाह खान, फिरोज अब्दुल, रिया सिद्दकी, ताहिर मर्चैन्ट और अब्दुल क्यूम धमाकों की साजिश रचने के मुख्य अभियुक्त हैं। वहीं, इस मामले मे सरकारी वकील डी एन साल्वी का कहना है कि अगर दोषी करार दिए गए तो सजा मिलेगी। 
अबू सलेम को प्रत्यर्पण संधि के तहत लाया गया था, इसलिए उसकी सजा में संधि का ख्याल रखा जाएगा और बाकी लोगों को सजा-ए-मौत तक हो सकती है। 93 मुंबई बम धमाकों का मुख्य आरोपी दाऊद इब्राहिम 1995 से फरार घोषित है और पाकिस्तान की सरपरस्ती में छिपा बैठा है। आने वाले फ़ैसले का असर फरार आरोपियों के प्रत्यार्पण में भी मदद साबित होगा।   
Share This Post