हुर्रियत आतंकी नेताओं का दोहरा चरित्र, घाटी में अशांति का माहौल बनाकर खुद जीते है सुकून की जिंदगी

श्रीनगर : कश्मीर घाटी में हुर्रियत नेताओं और अलगाववादी आतंकी नेताओं का दोहरा चरित्र लोगों के सामने आ रहा है। ये नेता एक तरफ कश्मीर के भोले-भाले युवाओं को सेना के खिलाफ भड़काते हैं और देश विरोधी नारे लगवाते हैं।

स्कूल कॉलेजों में आग लगाने को उकसाते हैं और सेना के खिलाफ पत्थरबाजी के लिए प्रेरित करते हैं। वहीं, ये अपने बच्चों को इन सबसे दूर रखकर अच्छी शिक्षा के लिए अच्छे स्कूलों में भेजते हैं, विदेशों में पढ़ाते हैं। इनके बच्चे देश के नामी कंपनियों के अलावा विदेशों में नौकरी भी कर रहे हैं और ऐशो आराम की जिंदगी जी रहे हैं।

इससे साफ होता है कि ये किस तरह जानबूझ कर घाटी में अशांति का माहौल बनाकर खुद चैन और सुकून की जिंदगी बसर कर रहे हैं। वो अपने बच्चों को शिक्षा देते हैं कि वो घाटी के बिगड़े माहौल से दूर रहे, क्योंकि इसका उनके जीवन पर बुरा असर पड़ेगा। अब ऐसे में इन लोगों से सवाल पूछा जाए कि वो ऐसी स्थिति के लिए दूसरों के बच्चों को क्यों उकसाते हैं और पत्थरबाजी के लिए प्रेरित करते हैं जिससे उन्हें अपने बच्चों को शिक्षा के लिए बाहर भेजना पड़े।  

Share This Post