नाम बदल कर प्यार में फंसाया छात्रा को… और जब सच सामने आया लव जिहाद का फिर…

लव जिहाद के एक और मामले ने फिर से देवभूमि उत्तराखंड की बेटियों की सुरक्षा पे सवाल खड़े कर दिए हैं. देवभूमि में एक के बाद एक लव जिहाद के मामलों प्रकाश में आ रहे है. बावजूद न सरकार इस पर कोई कड़ा रुख अपना रही है और न ही वहां के हिन्दू संगठन. पिछले कुछ सालों से पहाड़ की लड़कियों का मुस्लिम युवा जमकर शोषण कर रहे है. अल्मोड़ा, कोटद्वार, हरिद्वार, बागेश्वर, काशीपुर जिहादियों का अड्डा बन चूका है.

उत्तराखंड के मूल निवासी यहाँ से पलायन कर रहे है और मुस्लिमों की तादात यहाँ बढ़ते जा रही है. हिन्दू नाम रखकर पहले ये लड़कियों को अपने प्रेम जाल में फसाते है और बाद में उनका रेप करके उन्हें ब्लैकमेल करते है. ये सिलसिला यही नहीं थमता उसके बाद शारीरिक शोषण करके इनका जबरन धर्म परिवर्तन कराया जाता है, और बाद में इन्हें बेच दिया जाता है.

तजा मामला हल्द्वानी का है जहाँ पर पिथौरागढ़ की रहने वाली छात्रा यहां परिवार के साथ लालडांठ में किराए पर रहती है, जो कि इंटर की छात्रा है.

कुछ दिन पहले मुस्लिम टेम्पों चालक ने उसे हिन्दू नाम रखकर अपने प्रेम जाल में फसा लिया. जिसके बाद उसने लड़की को शादी की बात करने अपने घर बुलाया. लेकिन जैसे ही लड़की को उसकी सच्चाई पता चली तो उसके होश उड़ गये. वहां मौजूद हिन्दू समुदाय के लोगों को जब लड़की ने ये बात बताई तो उन्होंने इसका कड़ा विरोध किया. खबर मिलते ही कुछ राजनीतिक संगठनों के लोग भी वहां पहुच गये.

जिसके बाद मामला बनभूलपुरा थाने तक पहुँच गया. खबरों के मुताबिक पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से नहीं लिया और मुस्लिम टेम्पों चालक को बिना कारवाही के बरी कर दिया. सूत्रों के मुताबिक मुस्लिम युवक ने पहले लड़की का शारीरिक शोषण किया और बाद में जबरन उसका धर्म परिवर्तन करने की फिराक में था. आपको बता दें कि पिछले वर्ष अल्मोड़ा के सल्ट ब्लॉक के लापता हुयी 11 लड़कियों का आज तक कोई सुराग नहीं मिला है. एक गैरसरकारी संस्था के अनुसार पुरे गढ़वाल मंडल से 330 लड़कियां गायब हैं 2014 से जिनकी कोई खबर नहीं हैं. अफसोश की बात है कि त्रिवेन्द्र सरकार ने अब तक इस कोई एक्शन नहीं लिया.

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW