Breaking News:

भारत को आंख दिखाने वाले दुश्मनों की नहीं खैर, भारतीय सेना की बढ़ी ताकत

नई दिल्ली : अब भारत को आंख दिखने वाले दुश्मनों की खैर नहीं है। कोई भारत का दुश्मन अब उससे नहीं बच सकता क्योंकि सेना के इस्तेमाल के लिए दो नई तोपें M-777 हॉवित्ज़र भारत पहुंच गई हैं। M-777 हॉवित्जर तोपों को चार्टर्ड प्लेन के जरिए ब्रिटेन से भारत लाया गया। इन्हें जल्द राजस्थान के पोखरण भेजा जाएगा। वहां विभिन्न किस्म के भारतीय गोला-बारूद से इनकी टेस्टिंग की जाएगी।

पाकिस्तान से लगी सीमा पर रक्षा तैयारियों के लिहाज से सेना के लिए यह अहम घटनाक्रम है। 1986 में बोफोर्स के बाद पहली बार सेना के लिये बढ़िया तोप खरीदने का रास्ता साफ हो गया है। 2900 करोड़ की इस डील के तहत अमेरिका भारत को 145 नई तोपें देगा। ऑप्टिकल फायर कंट्रोल वाली हॉवित्ज़र से तक़रीबन 40 किलोमीटर दूर स्थित टारगेट पर सटीक निशाना साधा जा सकता है।

डिजिटल फायर कंट्रोल वाली यह तोप एक मिनट में 5 राउंड फायर करती है। इस तोप की खास बता यह है कि इनको बनाने में काफी हद तक टाइटेनियम का इस्तेमाल किया गया है और ये दूसरी तोपों के मुकाबले काफी हल्की हैं। यह 25 किलोमीटर दूर तक बिल्कुल सटीक तरीके से टारगेट हिट कर सकती हैं। चीन से निपटने में तो ये तोपें काफी कारगर साबित हो सकती हैं। भारत ये तोपें अपनी 17 माउंटेन कॉर्प्स में तैनात कर सकता है।

गौरतब है कि 1986 में बोफोर्स तोपों की खरीद के बाद इसके सौदे में दलाली के आरोपों ने भारतीय राजनीति में इतना बड़ा विवाद खड़ा कर दिया था कि नई तोप खरीदने में करीब 3 दशक का वक्त लग गया। इसके बाद 3 तोपों को सितंबर में लाने का प्लान है। फिर 2019 के मार्च से लेकर 2021 के जून के बीच हर महीने 5-5 तोपें आएंगी। जून 2021 तक सभी तोपें सेना को मिल जाएंगी।

Share This Post