Breaking News:

आतंकी को भाई बताया गया खुल कर वो भी सत्ता के एक सत्ताधीश द्वारा… मच गया हंगामा

पीडीपी नेताओं का आतंकि प्रेम हर दिन नये तरीके से फूट रहा है। उन्हें आतंकी और देश के जवानों में कोई फर्क नजर नहीं आता, कोई कहता है आतंकियों के जनाजे में शामिल होना गुनाह नहीं है तो कोई उनकी मौत पर ख़ुशी मानाने को हराम बता रहा है। पूरी दुनिया आतंकियों से दुखी है लेकिन पडीपी नेता आतंकियों की तरफदारी कर रहे है। बुधवार को जम्मू कश्मीर विधानसभा के बाहर पीपुल्स डेमोक्रेटिक पार्टी(पीडीपी) के विधायक एजाज अहममद ने आतंकियों के का पक्ष लेते हुए कहा, कि कश्मीर में मारे गए आतंकी शहीद हैं।

वे हमारे भाई हैं. उनमें से कुछ नाबालिग हैं, जो ये भी नहीं जानते कि वे क्या कर रहे हैं।

एजाज अहमद ने कहा कि ” हमें आतंकियों की मौत पर जश्न नहीं मनाना चाहिए ये हमारी सामूहिक विफलता है। हम दुखी होते हैं जब हमारे जवान शहीद होते हैं. हमें जवानों के परिजनों के साथ-साथ आतंकियों के परिवार वालों के साथ भी सहानुभूति होनी चाहिए। नेता जी ने कश्मीर मामले को सुलझाने के लिए आतंकियों और अलगाववादियों से बातचीत करने की मांग भी कर चुके है।

बता दें की ये वही नेता है जिनके घर पर तीन महीने पहले आतंकियों ने ग्रेनेड से हमला किया था. हालांकि इस हमले में किसा को कोई चोट नहीं आई थी।

पीडीपी विधायक के इस बयान पर भाजपा की तरफ से कैबिनेट मंत्री मुख्तार अब्बास नकवी ने कड़ा एतराज जताया. उन्होने पीडीपी विधायक के बयान पर सवाल उठाते हुए कहा, ” आतंकी और अलगाववादी कश्मीर में विकास और शांति के दुश्मन है. उन्हें कैसे कोई भाई कह सकता है।

गौरतलब है कि सेना ने सुरक्षाबलों के साथ मिलकर आतंकियों के खात्मे के लिए बडा़ ऑपरेशन चलाया था. इस ऑपरेशन में 200 से ज्यादा आतंकी मारे गए थे. जम्मू-कश्मीर के पुलिस महानिदेशक (डीजीपी) एस पी वैद्य ने ट्वीट कर इसकी जानकारी दी थी। जम्मू-कश्मीर की मुख्यमंत्री महबूबा मुफ्ती ने बुधवार को विधानसभा में बोलते हुए राज्य के लोगों से भारत, भारतीय संविधान और कश्मीर के संविधान का आदर करने की अपील की.

उन्होंने अपने भाषण में अलगाववादियों पर निशाना साधते हुए कहा था कि कश्मीर को जो भी मिलेगा वह भारत से ही मिलेगा कहीं और से कुछ नहीं मिलेगा। फिर भी उनके नेता अपनी बयानबाजी से बाज नहीं आ रहे है। 

Share This Post