Breaking News:

अस्पताल में मुस्लिम महिला बानो की मौत होते ही डाक्टरों, नर्सो और मरीजों ने देखा कि क्या होती है मॉब लिंचिंग ..

शायद इस से पहले उन्होंने मॉब लिंचिंग को अख़बारों में पढ़ा रहा हो या किसी भाषण में कांग्रेस के किसी नेता अथवा ओवैसी के मुह से सुना रहा हो.. पर उन्होंने ये कभी नहीं सोचा था कि उन्हें अपनी आखो से देखने को वो सब मिलेगा जो उन्होंने केवल TV या अखबारों में देखा या सुना रहा होगा .. उनका काम इंसानों की जान बचाना जरूर रहा था पर वो भगवान नहीं थे और न ही वो कभी गारंटी किसी को देते थे कि वहां आने के बाद किसी की मौत नहीं होगी ..

पर उस दिन उन्हें विकट हालात का सामना करना पड़ा जब एक उन्मादी भीड़ ने उन्हें घेर लिया. उस भीड़ में एक ही सोच , एक जैसे दिखने वाले लोग थे जो मारो मारो का नारा लगा रहे थे .. ये मामला है उत्तर प्रदेश के सबसे प्रतिष्ठित उपचार केन्द्रों में से एक केजीएमयू का जो मुस्लिम बहुल इलाके के बगल स्थित है.. यहाँ के लारी कार्डियोलॉजी में शुक्रवार देर रात मरीज सायरा बानो की मौत के बाद उसके साथ आये लोगों ने भयानक उत्पात किया जिसको देख कर कईयों की साँसे थम गयी ..

बहार से भी लोगों को बुला लिया गया और उसके बाद इमरजेंसी में तैनात डॉक्टरों को दौड़ा – दौडा कर पीटा गया.  भीड़ इतनी उन्मादी थी कि वो ये भी नहीं देख रही थी कि आस पास और भी मरीज भर्ती है जो इस घटना से सहमे हुए थे और ये सोच कर डरे हुए थे कि उनके ऊपर कहीं कोई हमला न कर दे . उन्मादी भीड़ को देख कर इस घटना के बाद तीन थानों की पुलिस बुलानी पड़ी जो लारी कार्डियोलॉजी पहुंची लेकिन इसके भी बावजूद लारी के जिम्मेदार अफसर मौके पर नहीं पहुंचे.

इस घटना के बाद गुस्साए डॉक्टरों ने कामकाज ठप कर दिया। आईसीयू से लेकर वार्ड तक में कोई भी डॉक्टर नहीं था बिना इलाज भर्ती गंभीर मरीजों की सांसें उखडने लगी। लेकिन शायरा बानो के साथ खड़ी उन्मादी भीड़ डाक्टरों पर ही आरोप लगाने लगी बिना ये देखे कि गलती उनकी ही है .. उन्होंने हंगामा शुरू कर दिया। हमलावरों की संख्या 50 के आस पास बताई जा रही है ..  डॉक्टर कर्मचारियों ने बाथरूम में छिप कर अपनी जान बचाई थी ..

सुदर्शन न्यूज को आर्थिक सहयोग करने के लिए नीचे DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW