नक्सलियों पर ‘सर्जिकल स्ट्राइक’ के लिए केंद्र ने बनाई ये नई रणनीति

सुकमा : छत्तीसगढ़ के सुकमा में जिस सड़क पर जवानों पर हमला हुआ था, उस सड़क निर्माण का कार्य सरकार ने कुछ समय के लिए रोक दिया है। ज्ञात हो कि 24 अप्रैल को सुकमा में नक्सली हमला हुआ था, इसी की वजह से आस पास के सभी गांव दहशत में है। इसी को देख कर सरकार ने सड़क का निर्माण दो हफ्तों के लिए टाल दिया है। इसके साथ ही यह जानकारी मिली है कि 250 किमी के आस पास के सभी गांवों को सरकार ने खली करवा दिया है।

एक रिपोर्ट के मुताबिक, सुरक्षाबलों के उपर हुए हमलों की वजह से ऐसा किया जा रहा है। पता चला है की इस कार्य के लिए आधे दर्ज़न सुरक्षाबल जुटे हुए है और इसी वजह से उनको ड्यूटी से हटाया गया है और नक्सलियों के विरुद्ध करवाई पर फोकस किया जा रहा है। सूत्रों के मुताबिक, यह पता चला है कि पूरे बस्तर में कुल 30 हजार जवान तैनात हैं। इसी के बाद जब नक्सिलयो ने हमला किया तो उस

वक़्त CRPF की 74वीं बटालियन के जवान वहां सड़क निर्माण के कार्य में लगे हुए थे। करीब 90 जवान वहां ड्यूटी पर थे।

नक्सल ऑपरेशन के डीजी डीएम अवस्थी ने कहा कि हम पूरी फोर्स को ऑपरेशन में शामिल करना चाहते हैं, हम चाहते हैं कि सभी जवान फिलहाल अपना पूरा ध्यान नक्सल के खिलाफ चल रही कार्रवाई पर लगाए। सुकमा में पहले भी नक्सली हमले हो चुके है ऐसा पहली बार नहीं है। इससे साबित हो रहा है कि सरकार के तमाम प्रयासों के बाद भी नक्सलियों का आतंक कम नहीं हो रहा है।

जानकारी के अनुसार, नक्सली हमले में 25 जवान खोने के बाद अब बस्तर में नक्सलियों के खिलाफ सर्जिकल स्ट्राइक की तैयारी है। अजित डोभाल 2 मई को दिल्ली से लेकर सुकमा तक नक्सल ऑपरेशन में लगे अफसरों की वीडियो कांफ्रेंसिंग के जरिए बैठक लेंगे। इसी क्रम में नक्सलियों को चौतरफा घेरने के लिए केंद्रीय गृह मंत्रालय में नक्सल मामलों के सलाहकार विजय कुमार ने सुकमा और डीजी नक्सल ऑपरेशन डीएम अवस्थी ने बीजापुर में डेरा डाल दिया है।

सुकमा और बीजापुर में पुलिस और अर्धसैनिक बलों के आला अधिकारियों की करीब दो घंटे तक चली बैठक में नक्सलियों के खिलाफ चलाए जाने वाले अभियान के लिए नया ब्लू प्रिंट तैयार किया गया है। बताया जा रहा है कि इसी की वजह से ऑपरेशन को तेज करने के लिए सड़क निर्माण में लगे जवानों को वापस बुला लिया गया है। नक्सल विरोधी अभियान के आला अधिकारियों ने स्वीकार किया है कि ऑपरेशन तेज करने के लिए सुरक्षा बलों की जरूरत पड़ेगी, इसलिए सड़क का काम फिलहाल बंद किया गया है।
 

Share This Post