सैनिकों के हत्यारे दुर्दांत नक्सली की पत्नी को मिल गया विधानसभा का टिकट.. एक ऐसी पार्टी जिसने पीड़ा दी सैंकड़ों बलिदानियों को

ओडिशा का दुर्दांत नक्सली सव्यसाची पांडा.. वो सव्यसाची पांडा जिसने क्रूरतम तरीके से देश के कई सुरक्षाबलों की हत्याएं की, वो सव्यसाची पांडा जो  जिसे खूनी खेल खेलने में मजा आता था, वो सव्यसाची पांडा जिसके निशाने पर हिंदूवादी नेता रहते थे तथा उसने हिंदूवादी नेता स्वामी लक्ष्मणानंद सरस्वती जी की क्रूरतम ह्त्या की.. वो सव्यसाची पांडा जिसने 25 पुलिसकर्मियों को मौत के घाट उतार दिया था.. उस सव्यसाची पांडा की पत्नी को ओडिशा विधानसभा चुनाव का टिकट दिया गया है तथा ये टिकट दिया है कांग्रेस पार्टी ने.

अपना मकान हर किसी को दे देती थी वो.. असल में वो सेक्यूलर थी और अब जला दी गई उसकी बेटी आमिर के हाथों

खबर के मुताबिक़, चुनाव जीतने की जुगत बैठाने के लिए जिताऊ प्रत्याशी की तलाश में भटकती कांग्रेस ने हत्या, अपहरण, लूटपाट के अपराधी माओवादी नेता सव्यसाची पांडा की पत्नी शुभाश्री पांडा उर्फ लिली पांडा को विधानसभा क्षेत्र से प्रत्याशी बनाया है. लिली पांडा अब रणपुर क्षेत्र से कांग्रेस के टिकट पर चुनाव लड़ेंगी. उनका नाम कांग्रेस की दूसरी सूची में प्रकाशित हुआ है. आपको बता दें कि दुर्दांत नक्सली सव्यसाची पांडा इस समय जेल में बंद तथा उसकी पत्नी को टिकट देकर उन बलिदानियों की आत्मा को पीड़ा दी है, जिनकी जान सव्यसाची पांडा ने ली थी.

अब लालू की पार्टी में मची भगदड़.. RJD प्रदेश अध्यक्ष ने ओड़ लिया भगवा तथा बोलीं- “फिर एक बार मोदी सरकार”

नक्सली सव्यसाची पांडा को 2014 में ओडिशा के गंजाम जिला स्थित बरहमपुर बड़ा बाजार में कांबिंग ऑपरेशन के दौरान गिरफ्तार किया गया था. 2006 में आरउदयगिरी थाना व सब जेल पर हमले के अलावा 2008 में विश्व हिदू परिषद के नेता स्वामी लक्ष्मणानंद सरस्वती तथा उनके चार सहयोगियों की हत्या, नयागढ़ थाना पर हथियार लूटना, 2012 में दो इटालियन पर्यटकों का अपहरण जैसी कई वारदात सव्यसाची ने की है. पंडा के खिलाफ 61 मामले दर्ज हैं, जिनमें 25 सुरक्षाकर्मियों की हत्या प्रमुख है

28 साल की लड़की को भगा ले गया मौलवी… मौलवी की उम्र है 70 साल

Share This Post