अब कटेगा 10 गुना चालान, जानिए फेक लाइसेंस बनवाने का असर..

सड़क परिवहन और राजमार्ग मंत्री नितिन गडकरी ने संसद में कहा था कि लगभग 30% फर्जी ड्राइविंग लाइसेंस मौजूद है भारत में, उन्होंने कहा है कि भारत में फर्जी लाइसेंस बनवाना बहुत ही आसान काम है, और ज्यादातर मामलों में लाइसेंस धारक की तस्वीर लाइसेंस में तस्वीर से मेल नहीं खाती.

नियमों की ढिलाई के वजह से कोई भी मोटर चालक ऐसी चीजों का परवाह नहीं करता. 50 से 100 रूपए चालान भरने से कोई भी मोटर चालक नहीं कतराते और बेफिक्र होकर ट्रैफिक के नियम तोड़ते चले जाते है.

गडकरी के हिसाब से देश भर में हर साल सड़क दुर्घटनाओं में करीब 1.50 लाख लोगों कि मौत होती है. उन्होंने कहा कि यह उनकी सबसे बड़ी नाकामी है कि पिछले चार सालों की कोशिश के बाद मोटर वाहन एक्ट में संशोधन को सदन में पास नहीं किया जा सका. इसके अलावा उन्होंने कहा कि सरकार के तमाम कोशिशों के बाद भी देश में 3 से 4% सड़क दुर्घटनाओं में कमी ला पाई है. लेकिन वही तमिल नायडू में 15 फीसदी कमी आई है. अब ऐसे में सरकार तामिल नाडू को अपनाने कि कोशिश कर रही है.

चालान में बदलाव..अब 10 गुना बढ़ा चालान..

नए अधिनियम के तहत जुर्माना 10 गुना बढ़ जायेगा. आइये जानते है जुर्माने में आखिर क्या बदलाव आया है..

शराब पीकर वाहन चलाने वाले को अब 2000 रूपए के बजाए 10,000 रूपए तक देने होंगे.

नए mv एक्ट के तहत सार्वजनिक सड़कों पर खतरनाक ड्राइविंग के लिए जुर्माना 1000 रूपए से 5000 रूपए तक बढ़ जायेगा.

. नए बील के तहत फर्जी लाइसेंस के साथ गाड़ी चलाने पर मौजूदा कानून के तहत 500 रूपए के बजाये 5000 रूपए का जुर्माना लगेगा.

. खराब ड्राइविंग और ड्राइविंग के दौरान मोबाइल फ़ोन चलाने पर जुर्माना यातायात मौजूद 1000 रूपए से 5000 रूपए तक जायेगा.

 

Share This Post