17 वर्षों तक पीएम मोदी के PRO रहे वरिष्ठ पत्रकार जगदीश ठक्कर का देहांत… प्रधानमन्त्री सहित पूरा राष्ट्र शोकाकुल

प्रधानमंत्री कार्यालय के जनसम्पर्क अधिकारी (पीआरओ) और वरिष्ठ पत्रकार जगदीश ठक्कर का यहां सोमवार को निधन हो गया है. 72 वर्षीय ठक्कर पिछले कुछ समय से बीमार थे. उन्होंने दिल्ली के अखिल भारतीय आयुर्विज्ञान संस्थान (एम्स) में अंतिम श्वांस ली.  प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके निधन पर गहरा शोक व्यक्त किया है. प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी ने उनके निधन पर शोक व्यक्त करते हुए उन्हें एक ऐसा बेहतरीन इंसान बताया, जो अपने काम से प्रेम करता था. जगदीश ठक्कर ने श्री नरेंद्र मोदी जी के साथ १७ वर्षों तक कार्य किया. जगदीश ठक्कर को मोदी जी का बेहद करीबी माना जाता था.

श्री जगदीश ठक्कर के निधन के बाद प्रधानमन्त्री श्री नरेंद्र मोदी उनके परिजनों से मिलने उनके घर गये तथा सांत्वना दी. ठक्कर के निधन पर पीएम मोदी ने दुख व्यक्त करते हुए ट्वीट किया, ‘कई पत्रकार वर्षों से जगदीशभाई के साथ लगातार संपर्क में रहे होंगे. उन्होंने गुजरात के कई मुख्यमंत्रियों के साथ काम किया. हमने एक बेहतरीन शख्स खो दिया, जिन्हें अपने काम से प्रेम था और जिसे उन्होंने अत्यंत परिश्रम के साथ किया. उनके परिवार और शुभचिंतकों के प्रति मेरी संवेदनाएं.’ प्रधानमन्त्री जी ने ट्वीट किया, ‘पीएमओ के पीआरओ जगदीश ठक्कर के निधन से बेहद दुखी हूं. जगदीश भाई वरिष्ठ पत्रकार थे और मुझे गुजरात तथा दिल्ली, दोनों जगह उनके साथ वर्षों तक काम करने का सुअवसर मिला. वह अपनी सादगी और मिलनसार व्यवहार के लिए पहचाने जाते थे.’

श्री जगदीश ठक्कर जी के निधन पर सुदर्शन टीवी के चेयरमैन श्री सुरेश चव्हाणके जी ने दुःख व्यक्त किया है. सुरेश चव्हाण जी ट्वीट करते हुए लिखा कि ठक्कर जी मेरे 10 वर्षों से परिचित थे तथा हमेशा उपलब्ध रहते थे. उनका जाना मेरी भी व्यक्तिगत क्षति है. ठक्कर को उनके मधुस्वभाव और मीठी बोली के लिए जाना जाता था. गुजरात के भावनगर से प्रकाशित होने वाले एक स्थानीय अखबार के साथ उन्होंने पत्रकार के तौर पर अपने करियर की शुरूआत की थी. 1970 के आखिर में वह गुजरात सरकार के सूचना कार्यलाय से जुड़े. 1986 में उनकी नियुक्ति गुजरात के मुख्यमंत्री कार्यालय में हुई थी.

1986 से लेकर मोदी के गुजरात के मुख्यमंत्री रहने तक जगदीश ठक्कर CM ऑफिस में पीआरओ रहे थे. उन्होंने 2001 में पीएम मोदी के साथ काम करना शुरू किया था.  मोदी और ठक्कर की नजदीकियों का अंदाजा इस बात से लगाया जा सकता है कि जब ठक्कर 2004 में रिटायर्ड हो रहे थे तो मोदी ने उनका कार्यकाल बढ़ा दिया. उसके बाद से ही वह लगातार काम करते रहे. जब 2014 में मोदी बतौर प्रधानमंत्री दिल्ली आए तो जगदीश ठक्कर को भी दिल्ली लाया गया. उन्हें प्रधानमंत्री कार्यालय में पीआरओ नियुक्त किया गया.

 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW