कट्टरपंथ की हद हुई पार .. अदालत में आई बीबी को दिया 3 तलाक, पुलिस के बाद क्या अब अदालतों का भी डर खत्म ?

इसको कट्टरपंथ की सभी सीमाओं को पार करना ही कहा जाएगा क्योकि जहा कश्मीर में उसी सोच और मानसिकता के तमाम लोग सरकार और उसके अंग सेना से खुली जंग लड़ रहे हैं तो अब मध्य भारत के उत्तर प्रदेश जैसे जिलों में पुलिस और अदालत का भी डर नहीं दिखाई दे रहा है क्योकि वो गुनाह करने के लिए सीधे सीधे कोर्ट परिसर को चुन रहे हैं .. वो अदालत जो न्याय का मन्दिर कहा जाता है वहां शुरू कर दिए गए हैं अन्याय , अब सवाल ये है कि पीडिता आखिर जाए तो कहाँ जाए ?

ये मामला है योगी आदित्यनाथ शासित उत्तर प्रदेश का जहाँ जिला अमरोहा में एक सनसनीखेज वारदात हुई है . अपनी बीबी को लगातार प्रताड़ित करने वाला शौहर पहले पुलिस और समाज के डर से न माना तो उसकी बीबी न्याय मांगने के लिए न्यायालय तक गई. न्यायालय को भी तब चुनौती दे डाली उस कट्टरपंथी ने जब अदालत के परिसर में ही उसको तीन तलाक दे कर बेसहारा कर डाला गया .. बीबी रहम की भीख मांगती रह गयी लेकिन उस कट्टरपंथी पर उसका कोई असर नहीं पड़ा .

ये लड़की राष्ट्रीय स्तर की खिलाडी है जिसका निकाह उत्तर प्रदेश की राजधानी लखनऊ के गोसाईगंज थानाक्षेत्र के अमेठी में मोहम्मद फारुख से हुआ था . शुमयाला नाम की ये लड़की खुद बास्केटबाल की राष्ट्रीय स्तर की खिलाडी रह चुकी है और एक बेटी की माँ भी है . इनका मायका मुहल्ला मुलाना कोतवाली नगर अमरोहा में है.. लगातार दहेज़ की मांग से जब ये परिवार टूट सा गया तब इन्होने अदालत में गुहार लगाईं थी लेकिन शौहर ने केस के विचाराधीन होने के बाद भी लड़की शुमयला को अदालत परिसर में ही 3 तलाक दे डाला और साथ में धमकी भी दी कि उसके अंजाम बुरे होने वाले हैं .

ये मामला गत शुक्रवार का है .. तीन तलाक दे कर शौहर भाग निकला है जिसके खिलाफ शुमायला अंतिम साँस तक लड़ाई लड़ने की बात कर रही है . फिलहाल इस मामले को ले कर सवाल खड़े होने लगे हैं कि क्या कट्टरपन्थियो के मन और दिमाग से पुलिस के साथ साथ अब अदालतों का भी डर खत्म होने लगा है .

Share This Post