ये संयोग है या साजिश ? एक समय में 2 IPS अफसरों ने मोदी सरकार के खिलाफ दिखाए बगावती तेवर.. दोनों के बीच एक चीज कॉमन है और वो है – CBI

ये महज एक संयोग है या कोई सोची समझी साजिश ? कुछ ही समय में २ बड़े IPS अफसरों ने मोदी सरकार के खिलाफ अपने इरादे जाहिर किये .. यद्दपि पुलिस का विभाग बहुत अनुशासित माना जाता है और उसमे किसी भी प्रकार के धरने , प्रदर्शन आदि की अनुमति नहीं दी जाती है .. यहाँ तक कि किसी राजनैतिक बयानबाजी की भी नहीं पर जिस प्रकार से २ बड़े आईपीएस अफसरों ने अपने बगावती तेवर मोदी सरकार को दिखाए उस से समझा जा सकता है कि वर्दी के पीछे सिर्फ एक पुलिसवाला ही नही होता बल्कि उसकी आड़ में कभी मजहबी कट्टरपंथी तो कभी राजनेता भी छिपा होता है .

ज्ञात हो कि मोदी सरकार के खिलाफ पहला तेवर देखने को मिला है उत्तर प्रदेश के कभी वरिष्ठतम अफसर कहे जाने वाले जावीद अहमद का . उत्तर प्रदेश के पूर्व डीजीपी जावीद अहमद ने कथित तौर पर मुसलमान होने की वजह से खुद को सीबीआई का डायरेक्टर ना बनाए जाने की बात कही है। अहमद ने आरके शुक्ला को सीबीआई निदेशक चुने जाने को लेकर एक वॉट्सएप ग्रुप में ये टिप्पणी की। अहमद इस समय केंद्र में डीजी एनआइसीएफएस (नेशनल इंस्टीट्यूट आफ क्रिमेनोलॉजी एंड फोरेंसिक साइंस) के पद पर तैनात हैं।

सीबीआई प्रमुख के पद के लिए खुद से योग्य अफसर शुक्ला का चुनाव होने के बाद इसको लेकर आइपीएस आफिसर वाट्सएप ग्रुप में उन्होंने एक टिप्पणी करते हुए कहा, अल्लाह की मर्जी। बुरा तो लगता है पर एम होना गुनाह है। यहां एम से उनका मतलब साफतौर पर मुसलमान से ही देखा जा रहा है। हालांकि बाद में कमेंट को डिलीट कर दिया, लेकिन पहले की ग्रुप में शामिल किसी शख्स ने स्क्रीनशॉट लेकर इसे सोशल मीडिया में वायरल कर दिया।

वहीँ दूसरी तरफ चर्चा में हैं आईपीएस अफसर राजीव कुमार जो पश्चिम बंगाल और दिल्ली की राजनैतिक हस्तियों के बीच युद्ध का कारण बने हुए हैं . इन्होने तमाम नियम कानूनों को ताख पर रखते हुए न सिर्फ सीबीआई को ही हिरासत में लेने का फरमान सुना डाला बल्कि तमाम राजनेताओं के बीच धरना प्रदर्शन में भी बैठ कर पुलिस मैनुअल की धज्जियाँ उड़ा डालीं .  यहाँ तक कि अभी भी ये अपने द्वारा किये गये कार्य को न जाने किस आधार पर सही ठहराने की कोशिश में लगे हुए हैं . फिलहाल लगभग एक ही समय में २ बड़े आईपीएस अफसरों का केंद्र सरकार के खिलाफ बगावती तेवर कइयो को सोचने पर मजबूर कर दिया है कि ये संयोग है या साजिश ,, ख़ास बात ये है कि दोनों के बीच एक चीज कॉमन है और वो है CBI ..

 

Share This Post