सैनिकों के लिए एक नई व्यवस्था पर नाराज हो गये भारत के लोगों से वोट लेने वाले दो बड़े नेता.. इन दोनों नेताओं के निशाने पर अब तक भाजपा थी


हिंदुस्तान कीकथित सेक्यूलर राजनीति का स्तर क्या है, इसका एक शर्मनाक तथा सोचनीय वाकया एक बार फिर से सामने आया है जब देश के सैनिकों की हिफाज़त के लिए की गई एक नई व्यवस्था पर देश के ही उन राजनेताओं ने सवाल खड़े किये हैं जो देश के लोगों से वोट लेते हैं. वो सैनिक जो अपनी जान पर खेलकर हिन्दुस्तान की संप्रुभता तथा हिंदुस्तान के नागरिकों की सुरक्षा करते हैं लेकिन जब उन्ही सैनिकों की हिफाजत की बात की जाती है तो इसके खिलाफ वो राजनेता खड़े हो जाते हैं, जो खुद इन्हीं सैनिकों के सुरक्षा घेरे में रहते हैं.

एक ऐसा मुद्दा जिस पर BJP और कांग्रेस दोनों सहमत हैं. मामला जुड़ा है एक जहरीले बयानबाज़ से

खबर के मुताबिक़, जम्मू कश्मीर के पुलवामा में सीआरपीएफ के काफिले और हाल ही में जवाहर सुरंग के पास कार विस्‍फोट को देखते हुए प्रशासन ने बड़ा फैसला लिया है. प्रशासन ने बारामूला से उधमपुर तक के राष्ट्रीय राजमार्ग पर 31 मई तक हर हफ्ते रविवार और बुधवार को नागरिक यातायात को बंद करने का ऐलान किया है. सरकारी अधिसूचना में बुधवार को कहा गया है कि बारामूला से उधमपुर तक के राष्ट्रीय राजमार्ग पर 31 मई तक हर हफ्ते रविवार और बुधवार को नागरिक यातायात को बंद कर दिया जाएगा.

AP मतलब अहमद पटेल ? अगस्त वेस्टलैंड मामले में एक और सनसनीखेज दावा

सैनिकों की हिफाज़त के लिए  राष्ट्रीय राजमार्ग पर नागरिक यातायात पर हफ़्ते में दो दिनों के प्रतिबंध के आदेश के खिलाफ जम्मू कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला तथा महबूबा तनकर खड़े हो गये हैं. जम्मू और कश्मीर के पूर्व मुख्यमंत्री उमर अब्दुल्ला ने गुरुवार को राज्यपाल सत्यपाल मलिक से अपील की कि वे कश्मीर राजमार्ग पर दो दिनों के लिए नागरिक यातायात पर प्रतिबंध लगाने के आदेश की समीक्षा करें तो वहीं महबूबा मुफ्ती भी इसके खिलाफ मैदान में आ गई हैं.

“तबाह होने के कगार पर है पाकिस्तान”.. ये दावा किसी भारतीय का नहीं बल्कि खुद पाकिस्तानी मंत्री का है

उत्तरी कश्मीर के बारामूला जिले के रफियाबाद क्षेत्र में एक चुनावी सभा को संबोधित करते हुए, उमर ने राज्यपाल से प्रतिबंध की समीक्षा करने की अपील की. उन्होंने कहा कि बारामूला और बनिहाल के बीच ट्रेन के माध्यम से सुरक्षा बलों की आवाजाही का प्रबंध किया जा सकता है. उन्होंने कहा कि राज्य में आतंकवाद के तीन दशकों के दौरान उन्होंने ऐसा महसूस नहीं किया कि इतनी खराब स्थिति है. उमर बोले कश्मीर में कई आतंकी हमले हुए इसके बावजूद इस तरह के आदेश नहीं जारी किए गए थे.

एक ऐसी जगह जहां एलान हुआ है BJP को वोट न देने का.. लोग मांग रहे सुरक्षा क्योंकि उन्हें दिखाया गया डर का आईना

वहीं, पीडीपी अध्यक्ष और पूर्व मुख्यमंत्री महबूबा मुफ़्ती ने भी इस आदेश को ग़लत ठहराते कहा, “पूरा भारत सरकार केवल कश्मीरी के खिलाफ निर्णय ले रही है. कल सरकार ने राजमार्ग पर यातायात पर प्रतिबंध लगाने का फैसला किया. क्या सारे ऑर्डर दिल्ली से आएंगे? बता दें कि अधिसूचना में कहा गया है कि श्रीनगर, काजीगुंड, जवाहर-सुरंग, बनिहाल और रामबन से होकर गुजरने वाले बारामूला-उधमपुर राजमार्ग पर नागरिक यातायात पर लगा प्रतिबंध प्रभावी होगा. यह प्रतिबंध दो दिन सुबह 4 बजे से शाम 5 बजे तक लागू रहेगा.

बीटेक के उस छात्र को सभी देशभक्त मानते थे.. फिर एक दिन उसकी फोटो हुई वायरल तब पता चला कि वो कुछ और था


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...