लखनऊ में पिटा कश्मीरी बेचता था ड्राई फ्रूट तो दिल्ली में गिरफ्तार कश्मीरी जैश आतंकी बेचता था शॉल..

कुछ समय पहले की बात है ये . उस समय भारत के न सिर्फ सेकुलर समाज बल्कि खुद को प्रखर हिन्दू कहने वालों ने भी लखनऊ में ड्राई फ्रूट बेचने वाले कश्मीरी की पिटाई का व्यापक विरोध किया था . उस वीडियो में साफ देखा जा सकता था कि पीटने वाले युवक उस कश्मीरी का आई कार्ड मांग रहे थे पर उसने नहीं दिखाया तो उसकी पिटाई शुरू हो गयी . फिर क्या था देश का प्रेम उमड़ पड़ा और देश को मिल गये नये नये हीरो .. इसमें भी बदनाम किया जा रहा था भगवा.

अब गोवा में धारण किया गया भगवा.. इस पार्टी के 2 विधायक टूटे

कहा गया कि पीटने वालों ने भगवा वस्त्र पहने थे इसलिए वो हिंदूवादी थे . इसके साथ ही इसमें कश्मीरी बेचारे के रूप में सामने आया ..लखनऊ जिले में एक कश्मीरी की पिटाई करने वाले कुछ हिंसक प्रवित्ति के लोगों की पुलिस द्वारा कड़ी धाराओं में त्वरित गिरफ्तारी उस समय देश के कोने कोने में चर्चा में थी . . धारा 307 के तहत हुई गिरफ्तारी भी हर किसी के मन को सुकून दे रही थी और लखनऊ पुलिस के साथ उसके पुलिस कप्तान कलानिधि नैथानी उस समय राष्ट्रीय हीरो के रूप में देखे जा रहे थे जिनका जलवा आज भी कायम हैं .. वो खुद भी ट्विट पर ट्विट किये जा रहे थे और अपनी बहादुरी के चर्चे भी रिट्विट कर रहे थे . ..

28 मार्च- आज अमरता को प्राप्त हुए थे दो भाई नीलाम्बर- पीताम्बर अंग्रेजों से लड़ कर. क्यों छिपाया गया हमसे, हमारे ही इन पूर्वजों का गौरवशाली इतिहास ?

अब दिल्‍ली पुलिस की स्‍पेशल सेल ने जैश के आतंकी को गिरफ्तार किया है। गिरफ्तार आतंकी का नाम सज्‍जाद है और वह जम्‍मू कश्‍मीर के पुलवामा का रहने वाला है। सज्‍जाद को कल रात दिल्‍ली के लाजपत राय मार्केट के निकट से गिरफ्तार किया गया है। पुलिस के मुताबिक सज्‍जाद जैश ए मोहम्‍मद का एरिया कमांडर है। सज्‍जाद के तार पुलवामा हमले के मास्‍टरमाइंड से जुड़े हो सकते हैं। सज्‍जाद को पुलवामा अटैक के मास्‍टरमाइंड मुदस्‍सिर का करीबी बताया जा रहा है।

मोदी ही नहीं, योगी भी प्रियंका के निशाने पर.. फ़तेह मोहम्मद से बोलीं – मोदी ही नहीं बल्कि योगी को भी हराने की तैयारी करो

मुदस्सिर को इसी महीने सुरक्षा बलों ने मार गिराया है। पुलवामा अटैक से पहले सज्‍जाद दिल्‍ली आया था। मुदस्सिर ने सज्‍जाद को दिल्‍ली में स्‍लीपर सेल स्‍थापित करने की जिम्‍मेदारी दी थी। गुरुवार की देर रात उसे लालकिला के पास लाजपत राय मार्केट से गिरफ्तार किया गया. वह एनआईए की वांछित लिस्ट में था. बताया जा रहा है कि वो अपनी पहिचान छिपाए रखने के लिए शाल बेचने का धंधा कर रहा था . लेकिन हैरानी की बात ये है कि अब कोई भी इस मामले पर बोलने के लिए तैयार नहीं हो रहा है .

एक अभिनंदन के लिए तडप उठा था देश. पर यासीन मालिक तो मार चुका है एयरफोर्स के 5 वीरों को. फिर भी उसे “आतंकी” नहीं “अलगाववादी” कहती रही “इमरान गैंग”

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW