आतंक के खिलाफ मोदी सरकार की बड़ी विजय.. कांग्रेस के तीव्र विरोध के बाद भी राज्यसभा से पास हुआ UAPA बिल

कांग्रेस सहित विपक्षी दलों के कड़े प्रतिरोध के बाद भी मोदी सरकार ने राज्यसभा से आतंक के खिलाफ UAPA संशोधन बिल पास करा लिया है. बिल के पक्ष में 147 और विपक्ष में 42 वोट पड़े. इस बिल में राष्‍ट्रीय जांच एजेंसी (NIA) को और शक्तिशाली बनाए जाने का प्रावधान है. बिल पर चर्चा का जवाब देते हुए अमित शाह ने कांग्रेस पर निशाना साधते हुए कहा कि निजी स्‍वार्थ के लिए कानून के दुरुपयोग का कांग्रेसी इतिहास सभी जानते हैं.

गृहमंत्री अमित शाह कहा कि अभी तक कमजोर कानून की वजह से देशद्रोहियों को सजा नहीं मिली. उन्‍होंने कहा कि कांग्रेस इसके दुरुपयोग की बात नहीं करे क्‍योंकि आपातकाल में क्या किया गया? जरा अपना अतीत देख लीजिए. उन्‍होंने कांग्रेस नेता दिग्विजय सिंह की दलीलों पर निशाना साधते हुए कि वह अभी-अभी चुनाव हारकर आये हैं तो उनका गुस्सा स्वाभाविक है. उन्‍होंने कहा कि समझौता एक्सप्रेस में आरोपी पकड़े गए, फिर उन्हें छोड़ दिया गया.

गृहमंत्री ने कहा कि धर्म विशेष और नकली मामला बनाकर एक धर्म विशेष के लोगों को टारगेट करके पकड़ा गया क्‍योंकि चुनाव नजदीक था. दरअसल इससे पहले दिग्विजय सिंह ने सरकार की नीयत पर शक जाहिर करते हुए कहा था कि जब से आपकी सरकार आई है तब से NIA के काम में फर्क हो गया है. तीन फैसले में अपराधी बरी हुए हैं- समझौता एक्‍सप्रेस, मक्का-मस्जिद, अजमेर शरीफ केसों में. NIA ने इसके खिलाफ अपील क्यों नहीं की?

गृहमंत्री शाह ने जहां अभियोजन और बचाव पक्ष एक हो जाएगा तो न्याय कैसे उम्मीद करें? आपने एक धर्म के खिलाफ माहौल बनाया है कि ये आतंकवाद से जुड़े हैं. आज इस समय देश में विश्‍वास की कमी है क्‍योंकि आपकी सोच विभाजित है? आप हिन्दू और मुसलमान में भेद पैदा करते हैं लेकिन हमारी सरकार की सोच ऐसी नहीं हैं. हम आतंकी को सिर्फ आतंकी मानते हैं तथा ये बिल आतंकियों के खिलाफ है. दिग्विजय सिंह के आतंकी घोषित करने के सवाल पर अमित शाह ने कहा कि अगर कुछ नहीं करोगे तो नहीं घोषित करेंगे. बिल के माध्‍यम से किसी के मानव अधिकार का उल्‍लंघन नहीं होगा.

गृहमंत्री शाह ने कहा कि जहां तक किसी व्‍यक्ति को आतंकी घोषित करने का सवाल है तो आतंकी यासीन भटकल कई मामलों में वांछित था. इसने अपना नाम बदल दिया. अगर 2009 में इसे आतंकी घोषित कर दिया होता तो हर जगह इसकी फोटो और फिंगर प्रिंट होता. संस्था व्यक्ति से बनती है और ये आतंकी एक संस्था बंद करके दूसरी खोल लेते हैं. जब तक व्यक्ति को आतंकी घोषित नहीं करते तब तक इस पर अंकुश नहीं लगेगा. आतंकवाद आज घोषित समस्या है. इजराइल, चीन और यूरोपीय देशों ने कानून बनाए हैं. उन्‍होंने विपक्ष पर निशाना साधते हुए कहा कि आतंकवाद के खिलाफ जो यह बिल है, इस पर यदि विपक्ष भी एक मत होता तो देश में एक अच्छा संदेश जाता लेकिन विपक्ष बिल का विरोध कर रहा है.

Share This Post