“जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी” का नारा गूंजने जा रहा कश्मीर में केंद्रीय मंत्री श्री नितिन गडकरी जी के इस एलान के बाद


“जहाँ हुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है” … ये वो नारा है जिसकी गूँज गानों में पड़ते ही हर राष्ट्रवादी व्यक्ति के रौंगटे खड़े हो जाते हैं. डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी भारतमाता के वो जांबाज बेटे थे जिन्होंने कश्मीर को भारत का हिस्सा बनाने के लिए अपने प्राणों का बलिदान दे दिया था. इसके बाद से ही हर देशवासी “जहाँ भुए बलिदान मुखर्जी वो कश्मीर हमारा है” का गगनभेदी नारा लगाते हुए इस बात के लिए संकल्पित था वो दिन जरूर आयेगा जब कश्मीर से 370 हटेगा तथा कश्मीर पूरी तरह से हमारा होगा.

5 अगस्त 2019 को वो दिन आया जब मोदी सरकार ने कश्मीर से 370 हटाकर उसे पूरी तरह से भारत का हिस्सा बना दिया. ये डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को सच्ची श्रद्धाजंली थी. अब डॉ. श्यामा प्रसाद मुखर्जी को एक और श्रद्धाजंली दी गई है तथा ये श्रद्धांजलि दी गई है केन्द्रीय मंत्री नितिन गडकरी की तरफ से. केंद्रीय मंत्री नितिन गडकरी ने एलान किया है कि देश की सबसे लंबी चेनानी-नाशरी सुरंग श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर होगी. गडकरी ने कहा कि कश्मीर का देश के साथ एकीकरण करने के उनके संघर्ष को देखते हुए यह सच्ची श्रद्धांजलि होगी.

नितिन गडकरी ने एक ट्वीट में कहा, ‘‘ऐतिहासिक! राष्ट्रीय राजमार्ग 44 पर जम्मू कश्मीर में स्थित चेनानी-नासरी सुरंग का नाम डॉ श्यामा प्रसाद मुखर्जी के नाम पर रखा जाएगा. यह श्यामा प्रसाद जी को हमारी सच्ची श्रद्धांजलि होगी, जिनके कश्मीर के लिये एक राष्ट्र, एक ध्वज के संघर्ष ने राष्ट्रीय एकीकरण में योगदान दिया.’’

 

बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने वर्ष 2017 में इस सुरंग का उद्घाटन किया था. इसे पटनीटॉप सुरंग के नाम से भी जाना जाता है.  9.2 किमी की यह सुरंग को एशिया की सबसे हाईटेक सुरंगों में से एक माना जाता है. इससे हर दिन हजारों वाहन जम्मू से श्रीनगर के बीच गुजरते हैं.  यह उधमपुर जिले के चेनानी को रामबन जिले के नाशरी से जोड़ती है. यह सुरंग जम्मू-श्रीनगर राजमार्ग का हिस्सा है और शिवालिक पहाड़ियों के बीच बनी हुई है. इसकी वजह से श्रीनगर और जम्मू का रास्ता दो घंटे में पूरा हो जाता है. इस सुरंग के निर्माण से जम्मू और श्रीनगर के बीच की दूरी 30 किलोमीटर तक कम हो गई है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...