पहली बार किसी केन्द्रीय मंत्री ने स्वीकारा भारत पर “गजवा-एज-हिन्द” का खतरा.. वो खतरा जिसको कई बार बता चुका है सुदर्शन न्यूज़

आप लोग माने या न मानें लेकिन इस्लामिक कट्टरपंथी हिन्दुस्तान को गजवा-ए-हिन्द बनाने का मंसूबा पाले बैठे हैं. गजवा-ए-हिन्द नाम ज्यादातर लोगों ने सुना होगा और जो गजवा-ए-हिन्द को नहीं जानते हैं वह गूगल या youtube पर देख सकते हैं जहाँ इसके लाखों विडियो मिल जायेंगे. गजवा-ए-हिन्द अर्थात हिंदुस्तान में इस्लामिक राज स्थापित करना, हिन्दुस्तान में शरीयत का कानून लागू करना, हिन्दुस्तान की वास्तविक सनातनी सभ्यता/संस्कृति को मिटाकर इस्लाम का राज्य स्थापित करना.

सुदर्शन हमेशा से अपने दर्शकों को तथा राष्ट्र को गजवा-ए-हिन्द के खतरे से जागरूक करता रहा है लेकिन अब पहली बार किसी केन्द्रीय मंत्री ने गजवा-ए-हिन्द के खतरे को स्वीकारा है. जी हाँ, भारतीय जनता पार्टी के फायरब्रांड हिंदूवादी नेता तथा केन्द्रीय मंत्री गिरिराज सिंह ने कमल हासन, नसीरुद्दीन शाह तथा नवजोत सिंह सिद्धू पर करारा हमला बोलते हुए कहा है कि ये लोग गजवा-ए-हिंद के लश्कर हैं. बिहार से बीजेपी सांसद गिरिराज सिंह ने कहा पाकिस्तान में ‘गजवा-ए-हिंद’ की चर्चा होती है, जिसका अर्थ भारत का इस्लामीकरण होता है, जिसे पुलवामा हमले के बाद गति मिली है.

उन्होंने कहा कि कि यह दुर्भाग्यपूर्ण है कि भारत में नसीरुद्दीन शाह और कमल हासन जैसे लोग गजवा-ए-हिंद वालों के एजेंट बन गए हैं जो गजवा-ए-हिंद की बात करते हैं. गिरिराज सिंह ने पिछले मंगलवार की सुबह एक ट्वीट भी किया था जिसमें उन्होंने कहा था कि कमल हसन ,नसीरूद्दीन शाह,सिद्धू और इन्टॉलरेंस ग्रुप पाकिस्तानी साज़िश गजवा ए हिंद(हिन्दुस्तान का इस्लामीकरण) साज़िश के लश्कर है. ऐसे लोग कश्मीर में जनमत संग्रह की बात करते हैं जबकि हिन्दुस्तान गज़वा ए हिन्द को विफल करने और 370 और 35A खत्म करने की मांग कर रहा है.

Share This Post