घुसपैठियों का असल रूप बताने वालीं केन्द्रीय मंत्री की हर तरफ प्रशंसा.. माना जा रहा है डोनाल्ड ट्रंप का बयान पार्ट-2

जिस तरह अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने खुले मंच से आतंक का धर्म बताते हुए कहा था कि वह भारत के साथ मिलकर रेडिकल इस्लामिक आतंक का खात्मा करेंगे, ठीक इसी अंदाज में मोदी सरकार में केन्द्रीय मंत्री तथा भारतीय जनता पार्टी की प्रखर हिन्दू राष्ट्रवादी नेता देवश्री चौधरी ने घुसपैठियों का असल रूप बताया है. केन्द्रीय मंत्री देवश्री चौधरी के बयान को अमेरिकी राष्ट्रपति ट्रंप के बयान का पार्ट 2 माना जा रहा है.

मोदी सरकार में महिला व बाल कल्याण राज्य मंत्री देवश्री चौधरी ने पश्चिम बंगाल में एनआरसी लागू करने का समर्थन करते हुए कहा है कि राज्य से  भारतीय मुस्लिमों को नहीं, बल्कि घुसपैठिये मुसलमानों को देश से बाहर किया जायेगा. मंत्री देवश्री चौधरी ने कहा कि देश का विभाजन धर्म का आधार पर हुआ था. विभाजन के पहले भी देश में काफी संख्या में मुस्लिम रहते थे और आज भी रह रहे हैं. लेकिन पहले से भारत में रहे मुस्लिमों को एनआरसी के तहत देश से बाहर नहीं निकाला जायेगा, बल्कि देश की स्वतंत्रता के बाद पाकिस्तान, बांग्लादेश, अफगानिस्तान व म्यांमार से आये घुसपैठिये मुस्लिमों को देश से बाहर निकाला जायेगा.

साथ ही, बेहद ही प्रखर व आक्रामक बयानों के लिए लोकप्रिय केन्द्रीय मंत्री देवश्री चौधरी ने साफ़ किया कि साफ कर दिया कि एनआरसी के तहत किसी भी हिंदू को देश से नहीं निकाला जायेगा, बल्कि अन्य देशों से आये हिंदू शरणार्थियों को यहां शरण दी जायेगी. नागरिकता कानून के तहत उन्हें नागरिकता दी जायेगी. उन्होंने कहा कि पूरे देश में लगभग दो करोड़ मुस्लिम घुसपैठियों का प्रवेश हो गया है. इनमें से लगभग एक करोड़ बंगाल में हैं, जिन्हें बाहर किया जाना जरूरी है.

मंत्री देवश्री चौधरी ने कहा कि कहा कि विरोधी दल एनआरसी को लेकर अफवाह फैला रहे हैं और प्रत्येक दिन नयी कहानी गढ़ रहे हैं. एनआरसी को लेकर दो लोगों की मौत के संबंध में टिप्पणी करते हुए सुश्री चौधरी ने कहा कि कोई भी मौत दुखद है, लेकिन जिस तरह से मौत को लेकर कहानियां बनायी जा रही हैं, वह बहुत ही निराशाजनक है. इससे पहले भी नोटबंदी के दौरान इस तरह से मौत को लेकर कहानियां बनायी गयी थीं, लेकिन देशहित के कार्य होते रहेंगे.

उन्होंने कहा कि राज्य के सत्तारूढ़ दल द्वारा एनआरसी को लेकर भ्रम फैलाया जा रहा है. लोगों में आतंक पैदा किया जा रहा है, लेकिन इस देश के मूल निवासी, चाहे वे किसी भी धर्म या भाषा के हों, उन्हें बाहर करने का सवाल ही नहीं उठता है. देवश्री चौधरी ने आगे कहा कि लेकिन मैं साफ़ कर देना चाहती हूँ कि बाहर से आये मुस्लिमों को हिंदुस्तान से बाहर जाना ही होगा लेकिन प्रताड़ित होकर दूसरे देशों से आये हिन्दुओं को यहां की नागरिकता दी जायेगी.

 

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करेंनीचे लिंक पर जाऐं


राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने हेतु हमे आर्थिक सहयोग करे. DONATE NOW पर क्लिक करे
DONATE NOW

Share