प्रियंका गांधी को इस बार किसी नेता ने नहीं बल्कि उत्तर प्रदेश पुलिस ने दिया जवाब


राजनीति में रक्षको को घसीटने की परम्परा उत्तर प्रदेश में ही नहीं बल्कि कश्मीर में भी साफ़ साफ़ देखी जा सकती है . कई बार भारत के वीर बलिदानियों के नेक कार्यों को निशाना बनाया गया है मात्र वोटबैंक की भूख को शांत करने के लिए.. राजनीती का सबसे ज्यादा शिकार अगर कोई विभाग होता है तो वो है पुलिस विभाग.. बिना समय का अवकाश लिए , न दिन और न रात देख कर हमेशा ड्यूटी पर मुस्तैद ये वीर जवान अपने प्राण दे कर भी राजनेताओं के निशाने पर रहते हैं .

एक बार फिर से अपने राजनैतिक स्वार्थो की पूर्ति के लिए उत्तर प्रदेश को अपनी राजनैतिक कर्मभूमि बनाने वाली प्रियंका गांधी ने योगी सरकार के खिलाफ हल्ला बोल की शुरुआत उत्तर प्रदेश पुलिस को निशाने पर लेते हुए प्रदेश में अपराध बढने का आरोप लगाया था और कहा था कि उत्तर प्रदेश में अपराधी खुलेआम मनमानी करते घूम रहे हैं। एक के बाद एक अपराधिक घटनाएँ हो रही हैं। मगर उ.प्र. भाजपा सरकार के कान पर जूँ तक नहीं रेंग रही। क्या उत्तर प्रदेश सरकार ने अपराधियों के सामने आत्मसमर्पण कर दिया है ?

प्रियंका गांधी का जवाब उत्तर प्रदेश पुलिस के आधिकारिक हैंडल द्वारा दिया गया और उनको बाकायदा आंकड़ों के साथ कहा गया कि उत्तर प्रदेश पुलिस समाज की रक्षा और शांति के लिए पूरी तरह से समर्पित है . पुलिस ने बाकायदा आंकड़ो के साथ बताया कि अपराधो में 35 से 40 प्रतिशत की गिरावट आई है .. इसी के साथ पुलिस ने कहा कि उसकी नजर अपराधियों की एक एक गतिविधि पर है और समाज को सुरक्षित रखना उनकी जिम्मेदारी है जिसका वो पूरी जिम्मेदारी के साथ निर्वहन करेंगे … पुलिस ने इस जवाब को हर किसी ने सराहा है और समाज की रक्षा के लिए पुलिस का बाकायदा धन्यवाद भी किया है .

देखिये वो ट्विट और उसका उत्तर –


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share