हिन्दू प्रत्याशी को टिकट और उन्हें नहीं, तो ट्रैक्टर ट्राली ले कर पार्टी कार्यालय पहुचे अब्दुल सत्तार और भर लिया वो सब, जो उन्होंने दिया था

राजनीति तेरे रंग अनेक .. इसको उस समय सबने देखा जब एक भडका हुआ नेता लोगों के सामने साक्षात रूप में आया और खुद को टिकट न देने वाली पार्टी के मुख्यालय ट्रैक्टर ट्राली ले कर पहुचा.. फिर वो सब कुछ उसमे भर लिया जो उसने कभी पार्टी को दिया था .. इसको बगावत का सबसे चरम बिंदु कहा जाए तो किसी भी रूप में गलत नहीं होगा .. आम जनता के दृष्टिकोण के हिसाब से इस बात से ये भी साबित हो गया है कि नेता जी का उद्देश्य सिर्फ और सिर्फ सांसद का पद लेना था न कि उनके भाषणों के हिसाब से जन सेवा करना .

अमेरिकी देश ग्वाटेमाला में ट्रक ने 30 को कुचल कर मार डाला.. रो दिया राष्ट्रपति

ये पार्टी कांग्रेस है और नेता का नाम अब्दुल सत्तर ए नबी .. ये विधायक हैं औरंगाबाद से कांग्रेस के जिन्होंने  विरोध का ऐसा तरीका  दिखाया है जिसको शायद आगे भी कुछ लोग अपना सकते हैं . औरंगाबाद के सिलोड़ से कांग्रेस विधायक अब्दुल सत्तर ए नबी को लोकसभा टिकट नहीं मिला तो गुस्सा अलग अंदाज में निकला। दरअसल सोमवार को सत्तर और उनके समर्थक क्षेत्रीय पार्टी कार्यालय आकर प्लास्टिक की 300 कुर्सियां लेकर चले गए और बाद में उन्होंने कांग्रेस से इस्तीफा भी दे दिया।

हिन्दू प्रत्याशी को टिकट और उन्हें नहीं, तो ट्रैक्टर ट्राली ले कर पार्टी कार्यालय पहुचे अब्दुल सत्तार और भर लिया वो सब, जो उन्होंने दिया था

भडके हुए अंदाज़ में नेता अब्दुल सत्तर का कहना था कि कुछ साल पहले पार्टी ऑफिस के लिए वो कुर्सियां उन्होंने खरीदी थीं तो वे उनकी हुईं। सत्तार के करीबी ने बताया है कि सत्तर कांग्रेस के टिकट से लड़ेंगे, निर्दलीय या किसी अन्य पार्टी से, ये हमारे कार्यकर्ताओं की बैठक में 29 मार्च को मालूम हो जाएगा। सोमवार को कांग्रेस ने यहां एनसीपी कार्यालय में ज्वाइंट मीटिंग में कांग्रेस ने सत्तर की जगह सुभाष झंबाड को सिलोड से टिकट दे दिया।

भारतीयों के दिन की शानदार शुरुआत.. सेना ने सदा के लिए खामोश किया 3 दुर्दांत आतंकियों को, बाकी अन्य को घेरा

Share This Post