वक्फ बोर्ड ने शुरु किया एक नया आंदोलन.. ये भी जुड़ा है मुस्लिम समाज से


वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद सलीम शादी समारोह में होने वाले व्यय को तो अनावश्यक व्यय मानते है लेकिन हज सब्सिडी पर किए गए व्यय को ये अनावश्यक व्यय नहीं मानते , इसीलिए खास मजहबी लोगों द्वारा सरकार के फैसले का विरेध किया जा रहा है। वक्फ बोर्ड ने शुरु किया एक नया आंदोलन शुरु कर दिया है जो मुस्लिम समाज के हित में जुड़ा हुआ है।

आपको बता दे कि दुर्भाग्यपूर्ण सामाजिक प्रथाओं को समाप्त करने के लिए और अनावश्यक व्यय को बचाने के लिए, वक्फ बोर्ड के अध्यक्ष मोहम्मद सलीम ने पुलिस, स्वयंसेवी संगठन और काजियों के सहयोग से आंदोलन शुरू करने का फैसला लिया है ,

ताकि वे सभी मुसलमानों को मध्यरात्री से पहले शादी समारोहों को पूरा करने के लिए निर्देशित कर सकें।

इसीलिए सलीम ने 23 जनवरी को पुलिस अधिकारियों और काज़ियों की बैठक बुलाई है। उन्हें आशा है कि आधी रात, संगीत, नृत्य और अन्य गैर-इस्लामिक गतिविधियों से पहले सभी शादी समारोहों को समाप्त करने के लिए एक शर्त द्वारा प्रतिबन्ध लगाया जा सकता है और शादी समारोह में होने वाले अनावश्यक खर्च से बचा जा सकता है।

साथ ही सलीम ने यह भी कहा कि निकाह मगरीब की नमाज़ के बाद किया जाना चाहिए ताकि शादी की कार्यवाही रात 12 बजे से पहले खत्म हा जाए। उन्होंने कहा कि पूरे रात में शादी के जश्न मनाकर , मुस्लिम समुदाय की अर्थव्यवस्था पर बहुत अधिक प्रभाव पड़ रहा है। उन्होंने आगे कहा कि उन्होंने दक्षिण और पश्चिम जोन के डीसीपी के साथ बातचीत की थी। वे अपने प्रस्ताव पर सहमत हुए हैं यदि मुस्लिम संगठन इस आंदोलन का समर्थन करते हैं, तो पुलिस इसे लागू करने के लिए तैयार है। सलीम ने बताया कि प्रस्तावित बैठक में मुस्लिम मौलवियों और लोगों के प्रतिनिधियों को भी आमंत्रित किया गया है।


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...