पानी पहुंचानी वाली पहली ट्रेन पहुची चेन्नई….


तमिलनाडु कि राजधानी को पानी पहुंचाने वाली पहली ट्रेन चेन्नई पहुच गई है. वेल्लोर स्थित जोलारपेट रेलवे स्टेशन से ये रेल सुबह निकल गई थी. चेन्नई को पानी देने के लिए रेल का संचालन शुक्रवार सुबह से शुरू किया गया है. जल संकट का सामना कर रहे चेन्नई कि समस्या का समाधान निकलने के लिए अब पानी अन्य जिलों से शहर तक पहुंचाया जा रहा है.

सूत्रों के मुताबिक पता चला है कि सरकार ने चेन्नई में पानी की कमी को दूर करने के लिए घोषणा कि थी कि वेल्लोर से रेल कि सहायता से चेन्नई को पानी पहुचाया जायेगा.

यहां लोग बूंद-बूंद पानी के लिए तरस रहे हैं,  इस परेशानी की सबसे बड़ी वजह- चेन्नई को पानी देने वाले चार जलाशय हैं, जो सूखे के कारण सूखने की कगार पर हैं. बीते साल के मुकाबले इन जलाशयों में महज एक फीसदी ही पानी बचा है.  ये कुल क्षमता का महज 0.2 फीसदी है.  इससे पाइप लाइन से शहर में पानी की सप्लाई 40 फीसदी घटा दी गई है.

जल संकट से चेन्नई के 46 लाख से ज्यादा लोगों को पीने का पानी नहीं मिल पाया है. स्थिति यह है कि दक्षिणी इलाके में एक बाल्टी पानी के लिए लोगों को 3 घंटे तक इंतजार करना पड़ रहा है और यह समस्या वाकई बहुत परेशान करने वाला है . पानी  भरने के दौरान हुई हिंसा के बाद यहां नगर निगम टोकन से पानी बांट रहा है.  प्राइवेट मालिक प्रति टैंकर 4000 रुपये से 6000 रुपये तक वसूल रहे हैं.  उसके लिए एक हफ्ते तक की वेटिंग चालू है.


सुदर्शन के राष्ट्रवादी पत्रकारिता को आर्थिक सहयोग करे और राष्ट्र-धर्म रक्षा में अपना कर्त्तव्य निभाए
DONATE NOW

Share
Loading...

Loading...