खाप पंचायतों पर तो शुरू हो जाती है बहस लेकिन बहराइच के जमशेद ने अपनी बहन के साथ जो किया उस पर ख़ामोशी क्यों ?

अगर कुछ समय पहले की बात की जाय तो खाप पंचायतो के एक एक आदेश पर कैमरे और माईक हुआ करते थे, उन पंचायतो की हर आवाज ब्रेकिंग हुआ करती थी . खुद को स्वयम्भू बुद्धिजीवी कहने वाले लोग तख्ती आदि ले कर तैयार रहते थे खाप पंचायतो को विकृत रूप में साबित करने के लिए . हालात यहाँ तक हुआ करते थे कि खाप पंचायत को वो कश्मीर के आतंकवाद से ज्यादा दिखाते थे और बुद्धिजीवी वर्ग के विशेष टीम के अनुसार राष्ट्र की समस्या आतंकवाद नहीं बल्कि खाप जैसी पंचायतें हुआ करती थीं.

बाबर की तरफ से सुप्रीम कोर्ट में खड़े मुस्लिम पक्ष की श्रीराम मन्दिर पर दी गई दलील सवाल करती है कि कहाँ है सेकुलरिज्म ?

खाप पंचायतो से अक्सर लडकियों को जींस न पहनने तो कभी मोबाइल आदि से दूर रहने के आदेश जारी हुआ करते थे जिसको मानना या न मानना सम्बन्धित परिवारों पर हुआ करता था.. पर वही बुद्धिजीवी पहले तीन तलाक मामले में महिलाओं के विरोध में दिखे और अब अब जो कुछ भी बहराइच में हुआ है वो तो और भी भयावाह है क्योकि यहाँ पर दिखाई गई है वो क्रूरता जो जल्लादों को भी एक बार सहम जाने पर मजबूर कर देगी.. ये दरिंदगी हुई है एक बहन के साथ उसके ही भाई के हाथों .

एक नारी के साहस और पराक्रम से हार गये दुर्दांत नक्सली.. स्वीकार की ऐसी चुनौती जो बन जायेगी इतिहास

बहराइच पुलिस को एक लड़की की सिर कटी लाश मिली थी एक निर्माणाधीन मकान से.. पुलिस के आगे लडकी का ही परिवार फूट फूट कर रोया था और पता चला कि लड़की का नाम रूबी था .. ये घटना बहराइच के रुपईडीहा थाना अंतर्गत बाबागंज कस्बे की है .. एसएसपी ने बताया कि 2 सितंबर को मुखबिर की सूचना पर जमशेद पुत्र अहसान को रामलीला टीला थाना मुजफ्फर नगर के पास गिरफ्तार कर लिया। पुलिस गिरफ्त में आये जमशेद के इकबालिया बयान पर उसे कोर्ट में पेश कर जेल भेज दिया।

जिस राफेल पर विवाद करके कम की गई थी एयरफोर्स की ताकत, अब वही राफेल आ रहा है चीन व पाकिस्तान के आगे अड़ने के लिए

आरोपी जमशेद मुजफ्फरनगर जिले का निवासी है। इसकी तीन बहनों में मृतका रूबी सबसे छोटी बहन थी। जिसका उसके बड़े बहनोई के  छोटे भाई से प्रेम के चलते अवैध संबंध स्थापित हो गए थे। जिसको लेकर जमशेद बेहद तनाव में रहता था। चूंकि जमशेद के बड़े बहनोई बहराइच के रुपईडीहा इलाके में फेरी का काम करते थे, जिसमें उनका भाई हासिम भी सहयोगी था। जमशेद के काफी प्रयास के बाद भी रूबी और हासिम के बीच संबंध बंद नहीं हुए।

जिस राफेल पर विवाद करके कम की गई थी एयरफोर्स की ताकत, अब वही राफेल आ रहा है चीन व पाकिस्तान के आगे अड़ने के लिए

19 जून 2019 की रात में उसने अपनी बहन की हत्या कर दी। फिर पहचान छिपाने के लिए उसका सिर धड़ से अलग दूसरे स्थान पर फेंककर उसके चेहरे को पेट्रोल डालकर जला दिया। जबकि धड़ उसने भारत नेपाल सीमा के निकट बाबागंज इलाके में एक निर्माणाधीन मकान में फेंक दिया। पुलिस की सक्रियता व सर्विलांस सेल के सहयोग से जिले की रुपईडीहा पुलिस ने मामले के आरोपी व मृतका के भाई जमशेद को पकड़ लिया।

राष्ट्रवादी पत्रकारिता को समर्थन देने के लिए हमें सहयोग करें. नीचे लिंक पर जाऐं–

Share This Post