अब सोशल मीडिया के जरिए कश्मीर में हिंसा नहीं फैला पाएंगे पत्थरबाज

श्रीनगर : प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और मुख्यमंत्री महबूबा मुक्ती की मुलाकात के बाद कश्मीर में हिंसा पर काबू पाने के लिए सरकार ने बुधवार को कश्मीर में 22 सोशल साइट्स पर बैन लगा दिया है। यह पाबंदी अगले आदेश आने तक एक महीने के लिए फेसबुक, व्हाट्एप और ट्विटर जैसे 20 सोशल साइट्स पर बदं रहेंगे।

कश्मीर सरकार के गृह विभाग ने आदेश जारी करके इंटरनेट सर्विस प्रोवाइडरों को सोशल मीडिया की साइट पर रोक लगाने को कहा है। उपद्रवी तत्व सोशल मीडिया के सहारे कश्मीर की शांती भंग कर रहे है और इसका गलत इस्तेमाल कर रहे है। इस आदेश के बाद अब यूट्यूब पर भी वीडियों अपलोड नहीं कर सकेंगे।

पुलिस अधिकारियों का कहना है कि सोशल नेटवर्किंग साइट्स पर पाबंदी का फ़ैसला घाटी के हालात के गंभीर विश्लेषण के बाद लिया गया है। सोशल मीडिया पर पोस्ट के ज़रिए युवाओं को भड़काने की आशंका के कारण यह फ़ैसला लिया गया है। बता दें कि पिछले एक महीने से कश्मीर घाटी में हालात बिगड़ते जा रहे हैं।

पत्थरबाजों में अब स्कूल के छात्र भी सामने आने लगे है। सुरक्षाबलों और पत्थरबाजों के बीच संघर्ष लगातार बढ़ता ही जा रहा है। ऐसी भी खबरें आई कि पत्थरबाजी करने वाले लोगों ने सोशल मीडिया का गलत इस्तेमाल किया और साथ ही सोशल मीडिया पर आतंकियों के वीडियो भी अक्सर सामने आते रहते है।

इन सोशल साइट्स पर पाबंदी-

Facebook
Google+
Baidu
Skype
Twitter
Whatsapp
YouTube
Vine
Snapchat
Pinterest
Telegram
Reditt
Snapfish
Xanga
Flickr
QQ
WeChat
Ozone
Tumblr
Viber
Line

Share This Post