न्याय के परिसर में महिला IAS अफसर के साथ बदसलूकी.. घटना राजधानी दिल्ली की

इस प्रकार की घटनाओं के शिकार पहले भी लोग हुए हैं जिसमे प्रयागराज कचहरी में सब इंस्पेक्टर शैलेन्द्र सिंह मामला सबसे ज्यादा चर्चित हुआ था . इसके अलावा अभी हाल में ही वकीलों का एक पूरा समूह उत्तर प्रदेश के सीतापुर जिले में कोर्ट परिसर में ही वहां के IPS अधिकारी प्रभाकर चौधरी का मोबाइल छीन कर एक पुलिस सब इंस्पेक्टर के साथ मारपीट करता भी देखा गया था जिसमें बाद में कड़ी कार्यवाही भी की गई थी.. अब उसी क्रम में उसी प्रकार की घटना की शिकार हुई है एक महिला IAS अधिकारी.. सबसे दुख का विषय ये रहा कि ये घटना स्थल कोर्ट परिसर रहा है जिसको न्याय का मंदिर तक कहा जाता है .. और उस से भी अधिक पीड़ा का विषय ये भी है कि ऐसा करने वाले वो लोग बताए जा रहे जिनके कंधों पर न्याय दिलाने की प्रथम जिम्मेदारी होती है..

ज्ञात हो कि न्याय के परिसर में कुछ लोगों द्वारा अन्याय की शिकार हुई है एक महिला IAS अधिकारी जिनकी वर्तमान तैनाती विकास के लिए अथक प्रयासरत व संघर्षरत पूर्वोत्तर के राज्य मिज़ोरम में है . ये घटना दिल्ली के जिला अदालत साकेट कोर्ट परिसर की है जहां पर सन 2014 बैच की एक महिला IAS अधिकारी हुई है बदसलूकी का शिकार काले कोट पहने एक समूह के द्वारा ..ये घटना 10 जनवरी की बताई जा रही है जिसमें वो अपने पति को पीट रहे एक समूह से जूझती और अपने पति को बचाने का प्रयास करती नजर आ रही है .. इस मामले से अन्य IAS अधिकारी दुखी हैं व उन्होंने अपनी महिला साथी को न्याय दिलाने के लिए दिल्ली पुलिस से आग्रह किया है ..ताजा समाचार लिखने तक इस मामले में कोई गिरफ्तारी नही हुई थी ..

लेकिन कानून के उन कथित जानकारों ने न सिर्फ उस महिला अधिकारी के पति को पीटना जारी रखा अपितु बीच बचाव करने पर खुद उनके साथ भी बदसलूकी की जो किसी भी रूप में निंदनीय ही मानी जायेगी..इस घटना की FIR साकेत पुलिस स्टेशन नई दिल्ली में की गई है जिसके बाद पुलिस ने साकेत कोर्ट परिसर की CCTV फुटेज निकाल कर अपनी जांच शुरू कर दी है .. फुटेज के आधार पर इतना साफ दिख रहा है कि पति पत्नी को एक समूह ने रोक लिया और उनके साथ मारपीट शुरू कर दी गयी जिसमें महिला अधिकारी तक को नही छोड़ा गया. बताया जा रहा है कि महिला अधिकारी की पिछली नियुक्ति के समय एक जमीन का मामला था जिसको मुद्दा बनाया गया .. महिला अधिकारी व उनके पति के बाहर निकलने की प्रतीक्षा सुनियोजित ढंग से की गई और बाहर निकलते ही उनकी कार को जबरन रोका गया व हाथापाई शुरू कर दी गयी..

 

Share This Post