संघ क्या है ये बताया योगी आदित्यनाथ…

नई दिल्ली : देश में राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ के कामों को लेकर कुछ लोग दिक्कत रहती है इसीलिए तो वो लोग आरएसएस पर सांप्रदायिकता का आरोप लगाते हैं। आए दिन आरएसएस के कामों के खिलाफ कोई न कोई बयान देते हैं। लेकिन आज यूपी के मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ ने उन लोगों के मुंह को बंद कर दिया है। योगी आदित्यनाथ ने सांप्रदायिकता पर नए सिरे से बहस की आह्वान किया है।

उन्होंने कहा कि देश में एक बार सांप्रदायिकता पर चर्चा होनी चाहिए। ये तय हो जाना चाहिए कि कौन राष्ट्रवादी है और कौन सांप्रदायिक? उन्होंने कहा कि सरकार इस मुद्दे के लिए बिल्कुल तैयार है। योगी ने ये सारी बातें विश्व हिंदू परिषद के हिन्दू विजयोत्सव कार्यक्रम में कहीं। योगी आदित्यनाथ ने दावा किया कि राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ लोगों के भीतर राष्ट्रवाद का भाव पैदा करने का काम कर रहा है लेकिन उसे सांप्रदायिक बताने की साजिश हो रही है। वहीं, समाज को विकृत करने वाले लोगों को मानवतावादी साबित किया जा रहा है।

योगी ने कहा कि जो कौम अपने इतिहास की रक्षा नहीं कर सकती, वह कौम भूगोल को नहीं संजो सकती। उन्होंने कहा कि अभी तक राजनीतिक लाभ के लिए इतिहास को तोड़ा-मरोड़ा गया। हमारे स्वतंत्रता आंदोलन को विद्रोह बताया गया। योगी ने कहा कि जो भारत को कश्मीर से कन्या कुमारी तक एक राष्ट्र के तौर पर देखते है उन्हें सांप्रदायिक कहा जाता है और जो लोग वोट बैंक बनाकर समाज को बांटने का काम कर रहे हैं वो खुद को मानवतावादी कहते हैं। इन लोगों को सांप्रदायिक कह करके उनको अपमानित करने का काम हो रहा है।

Share This Post