Breaking News:

जन्म दिन विशेषांक- गुजरात दंगो की विषम परिस्थितियों में जो गिनी चुनी हस्तियां खुल कर खड़ी थीं नरेंद्र मोदी के साथ उनमे से एक थे “योगी आदित्यनाथ”

**धीरज धर्म मित्र अरु नारी, आपद काल परखिये चारी.. —– श्री रामचरित मानस** (अर्थात धैर्य , धर्म , अर्धांगिनी व् मित्र की असली पहिचान संकट काल में ही की जाती है) .. एक योगी होने के कारण निश्चित रूप से उत्तर प्रदेश के वर्तमान मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ श्रीरामचरितमानस में मौजदू ये चौपाईयां कई बार पढ़े होंगे और निश्चित तौर पर प्रबल श्रीराम भक्त होने के कारण उन्होंने इसको अपने जीवन में बेहतर तरीके से उतारा होगा ..

फिलहाल एक सच्चे मित्र और विपत्ति काल के सहयोगी के रूप में योगी आदित्यनाथ की चर्चा करना कम से कम आज योगी आदित्यनाथ जी के जन्मदिवस के दिन बेहद जरूरी है .. जन्मदिवस की शुभकामनाओ के साथ ये जानकारी भी आपके लिए महत्वपूर्ण है ..तथाकथित धर्मनिरपेक्ष समाज के द्वारा सहिष्णु समाज को बदनाम करने के लिए बार बार उछाले जाने वाले गुजरात दंगो का समय शायद सबको याद हो . ये वो समय था जब नरेंद्र मोदी जी के खिलाफ तमाम वो शक्तियां सत्ता के दम पर लामबंद थी जो आज मोदी या योगी पर ही सत्ता के दुरूपयोग का आरोप लगाती हैं .

विद्रोह और साजिश की इसी आंधी में वर्तमान समय की ही तरह लामबंद हुए तमाम दलों के बीच में वर्तमान प्रधानमंत्री व् तत्कालीन गुजरात श्री नरेन्द्र मोदी ने ये विपरीत या विपत्ति काल अपने कुछ गिने चुने व् बेहद समर्पित मित्रों व् जनता के द्वारा मिले मनोबल व् साथ के दम पर काटा था उनमे से एक व् प्रमुख थे तत्कालीन समय के गोरखपुर सांसद और वर्तमान समय में उत्तर प्रदेश के मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ…ये वो समय था जब कुछ विशिष्ट लोग अमेरिका तक चिट्ठियां लिख कर श्री नरेन्द्र मोदी के विरोध को हवा दे रहे थे, कुछ लोग मोदी के खिलाफ दिल्ली से लगभग हर जांच एजेंसी को मोदी के खिलाफ पूरी तैयारी के साथ भेज रहे थे तब ठीक उसी समय श्री योगी आदित्यनाथ उनके पक्ष में खुल कर खड़े थे .

योगी आदित्यनाथ जी तत्कालीन केंद्र सरकार के तमाम राजनैतिक हथकण्डो व विरोध के बाद भी बिना विचलित हुए वो नरेन्द्र मोदी के पक्ष में पूरी तरह से आवाज उठाते रहे .. उन्होंने उस समय श्री नरेन्द्र मोदी के कार्यों की खुल का सराहना की थी व हर मंचो से नरेन्द्र मोदी की भूरि भूरि प्रशंशा की थी और उनके खिलाफ किसी भी साजिश के विरुद्ध तत्कालीन सरकार को चेतवानी भी देते रहे . आज उसी संकट के समय के सच्चे मित्र के मुख्यमंत्री के तौर पर सुशोभित हैं और उत्तर प्रदेश को ठीक उसी राह पर ले जा रहे हैं जिस राह पर नरेन्द्र मोदी कभी गुजरात को ले गये थे .

Share This Post